कबीरदास

SHARE:

" कबीर दास " भक्ति आन्दोलन के एक उच्च कोटि के कवि ,समाजसुधारक एवं प्रवर्तक माने जाते है । इनका जन्म सं . १४५५ में हुआ ...

"कबीरदास" भक्ति आन्दोलन के एक उच्च कोटि के कवि,समाजसुधारक एवं प्रवर्तक माने जाते है इनका जन्म सं.१४५५ में हुआ था -
चौदह सौ पचपन साल गए चंद्रवार एक ठाठ
जेठ सुदी बरसायत को पूरनमासी प्रगत भए
नीरू एवं नीमा नामक जुलाहों ने इनका पालन-पोषण किया था स्वामी रामानंद ,इनके गुरु थे कबीर ने कहा है- काशी में हम प्रगत भये,रामानंद चेताये " कबीर की स्त्री का नाम लोई था कमाल और कमाली ,इनकी संताने थी कबीर ने जुलाहे का व्यसाय अपनाया थाइनका निधन १५७५ में मगहर में हुआ था
बीजक कबीर की प्रमाणिक रचना मानी जाती है इसमे कबीर की वाणी का,उनके शिष्यों द्वारा किया गया संकलन है बीजक के तीन भाग -साखी,सबद और रमैनी है इसमे साखी महत्वपूर्ण मानी जाती है
महात्मा कबीर के समय में सारा समाज अस्त-व्यस्त था उनका युग सामाजिक और राजनीतिक दृष्टि से सक्रांति काल था,समाज टूटा था हिंदू और मुसलमान दोनों धर्मान्धता में जकड़े एक दूसरे के प्रति विद्वेष की भावना से ग्रसित थे इसके कारण दोनों की सम्प्रदायों में संघर्ष की स्थिति उत्पन्न हो गई थी कबीर इस धर्मान्धता से क्षुब्ध थे कबीर ने सामाजिक ,धार्मिक क्षेत्र में व्याप्त कुरीतियो और आडम्बरों को भली-भाँति समझा तथा उसे दूर का एक नैतिक समाज के गठन का आह्वान किया कबीर ऐसे समाज की स्थापना करना चाहते थे,जिसमे जाती की बाध्यता हो और ही धर्मान्धता की जकड़न हो कबीर का समाजसुधारक रूप सामाजिक ,धार्मिक,आर्थिक एवं नैतिक क्षेत्रों में देखा जा सकता है कबीर वर्ण,जाती और धर्म को नही मानते थे कबीर को योगी ,साधु-संन्यासियो,मुनियों एवं पंडितों का आडम्बर कभी स्वीकार नही हुआ इसीलिए वेशधारी-मिथ्याम्बरी लोगों का विरोध कर इनके व्रत-उपवास और पूजा -पाठ पर व्यंग किया है ब्राह्मण उच्च कुल में जन्म लेने मात्र से अपने को उच्च मानता था,चाहे उसकी दिनचर्या वैश्य की या शुद्र की ही क्यों हो ,इसी वर्ण-व्यवस्था को कबीर ने बदलने का प्रयास किया
पंडित भूले पढि गुनि वेदा आप अपनपौ जान भेदा
अति गुन गरब करें अधिकाई अधिकै गरदि होइ भुलाई
हिंदू समाज की ही यह दशा थी,हिन्दुओं की भाँति इस्लाम के ठेकेदारों ने भी अपने समाज में मिथ्या आचार-विचारों एवं आडम्बरों को प्रश्रय दे रखा था मुल्ला की झूठी इबारत और नमाज पढने के उपरांत गो-हत्या करना कबीर से सहा गया-
"दिन भर रोजा रहत है,रात हनत है गाय" कहकर रोजा का मजाक उडाया।
मुसलमान के पीर औलिया मुर्गा-मुर्गी खायी"
वास्तव में कबीर के प्रेरणा किसी व्यक्ति को सुधारने के लिए नही है,बल्कि दिशाविहीन समाज को दिशा देने के लिए है वे मदांध लोगों को समझाते है-
"निर्बल को सताइए जाकी मोटी हाय
मुई खाल की सांस सों सार भसम है जाय "
कबीर ने किसी मतवाद या प्रवर्तन नही किया। मानव जीवन के लिए उन्होंने जो कल्याणकारी मार्ग समझा ,अपने ज्ञान और अनुभवों के आधार पर जिसे उपयुक्त पाया उसका प्रवर्तन किया। कबीर मात्र एक कवि ही नही थे,बल्कि एक युग-पुरूष की श्रेणी में भी आते है। भक्तिकाल में ही नही,सम्पूर्ण हिन्दी साहित्य में कबीर जैसी प्रतिभा और साहस वाला कोई कवि दूसरा पैदा नही हुआ। उन्होंने भक्तिकाल का एकान्तिक आनंद जितना अपनाया है,उससे भी अधिक सामाजिक परिष्कार का दायित्व निर्वाह किया है। कबीर ने एक भावुक रचनाकार की तरह परमात्मा ,आत्मा ,माया कबीर जगत के विषय में चिंतन किया है।उनके इस चिंतन को दार्शनिक रहस्यवाद की कोटि में रखा जा सकता है। कबीर कोरे दार्शनिक नही है। वे मूलतः भक्त है । इसीलिए तर्कपूर्ण चिंतन -मनन के प्रति उनकी रुझान कम ही रहती है। कबीर सारी चिंता को छोड़ कर केवल हरिनाम की चिंता करते है। राम के बिना जो कुछ भी उन्हें दिखाई देता है,वह सब काल का पाश है। कबीर व्यक्तिगत साधना के साधक एवं प्रचारक थे,परन्तु उनका अपना व्यक्तित्व भी तो समाज सुधार की लहर की उपज था। अतःकबीर एक उच्चकोटि के समाज-सुधारक एवं कवि थे।

COMMENTS

BLOGGER: 21
  1. कबीर को जितना ही पढ़ते हैं, उतने ही आयाम खुलते हैं। निर्भयता का उनका उद्घोष 'निरभय निरगुन गुन रे गाऊँ' उनके व्यक्तित्त्व पर सटीक बैठता है।


    " भक्ति आन्दोलन के सर्वश्रेष्ठ कवि और प्रवर्तक" कथन ऐतिहासिक और किसी रूप से भी ठीक नहीं है। भक्ति आन्दोलन के सभी महान कवि अपनी अपनी जगह श्रेष्ठ थे। तुलना अच्छी नहीं होती।

    सरल भाषा में सुन्दर लेख। धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  2. कबीर की दोहे तो सब पढ़ते ही हैं...........आज उनके जीवन की जानकारी पढ़ कर और भी अच्छा लगा

    उत्तर देंहटाएं
  3. कबीर मेरे पसंदीदा कवि/संत हैं.उनका लिखा आज के समय में भी कितना सामयिक है.एक-एक शब्द जैसे भीतर उतरता चला जाता है.भक्तिकालीन कवियों की शाखायें अलग-अलग थीं, निर्गुण और सगुण में बंटी हुई,इसलिये ये कहना ठीक नहीं है,कि कबीर सर्वश्रेष्ठ थे.रहीम,मीराबाई,और सूरदास को भी हम कमतर नहीं आंक सकते.बेहतर लेख के लिये बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कबीर साहेब जी पूर्ण परमात्मा है ,साधना टीवी देखे शाम 0730 को प्रतिदिन वर्तमान में संत रामपाल जी के रूप में अवतरित हुए है बहन जी

      हटाएं
  4. sachmuch kabeer sarvshreshth the , maine bhi kabeer ke bare me kuch likha hai aap use padh sakte hai . aap ke vichar achchhe lage . sadhuvad !

    उत्तर देंहटाएं
  5. kabeer ji ke baare mein itni achchi jankari ke liye shukriya.uske liye kuch kahna to sooraj ko roshni dikhane ke barabar hai.

    उत्तर देंहटाएं
  6. kabeer aur raheem douno ke hee dohe jeevan me marg pradarshan ka kam karate hai. inaka ek ek doha anmol hai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामीमई 01, 2010 12:39 pm

    kabir das ji ke jiven ke bare me batane kye liye shukriya .

    उत्तर देंहटाएं
  8. kabir das ji sant to the hi mahatma bhi uchh koti ke the.
    inke dohon me hairan karne wale tathya hai jo sarvbhomik satya hai.ve na to hindu the aur na musalman the balki we to jaat paat aur dharm se bhi upar darje ke sant the.jisne inhe nahi padha wo adhure rah jate hai.
    :- mithilesh

    उत्तर देंहटाएं
  9. कबीर मेरे पसंदीदा कवि/संत हैं.उनका लिखा आज के समय में भी कितना सामयिक है.एक-एक शब्द जैसे भीतर उतरता चला जाता है.भक्तिकालीन कवियों की शाखायें अलग-अलग थीं, निर्गुण और सगुण में बंटी हुई,इसलिये ये कहना ठीक नहीं है,कि कबीर सर्वश्रेष्ठ थे.रहीम,मीराबाई,और सूरदास को भी हम कमतर नहीं आंक सकते.बेहतर लेख के लिये बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  10. setnet ke aadhypan me hindi kunj ne bahot madat ki

    उत्तर देंहटाएं
  11. कबीर मेरे पसंदीदा कवि/संत हैं.उनका लिखा आज के समय में भी कितना सामयिक है.एक-एक शब्द जैसे भीतर उतरता चला जाता है.भक्तिकालीन कवियों की शाखायें अलग-अलग थीं, निर्गुण और सगुण में बंटी हुई,इसलिये ये कहना ठीक नहीं है,कि कबीर सर्वश्रेष्ठ थे.रहीम,मीराबाई,और सूरदास को भी हम कमतर नहीं आंक सकते.बेहतर लेख के लिये बधाई.kabir das ji sant to the hi mahatma bhi uchh koti ke the.
    inke dohon me hairan karne wale tathya hai jo sarvbhomik satya hai.ve na to hindu the aur na musalman the balki we to jaat paat aur dharm se bhi upar darje ke sant the.jisne inhe nahi padha wo adhure rah jate hai.
    :- mithilesh

    उत्तर देंहटाएं
  12. कबीरदास एक महान कवि होने के साथ एक महान पुरूष भी है जिसका आदर्श हमारे लिए बहुत उपयोगी सिध्‍द है ा

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्री सतगुरु जी आपकी ओट है
    जो संत है वो अनंत होते है उनमे कोई अंतर नहीं होता है वो समय और सामाजिक स्थिति और जीव पर दया करने के लिए समय के अनुसार लिखते है जैसी परस्थिति होती है और जो सहज होता है है वो वाही करते है वो स्वम मालिक होते है

    उत्तर देंहटाएं
  14. श्री सतगुरु जी आपकी ओट है
    जो संत है वो अनंत होते है उनमे कोई अंतर नहीं होता है वो समय और सामाजिक स्थिति और जीव पर दया करने के लिए समय के अनुसार लिखते है जैसी परस्थिति होती है और जो सहज होता है है वो वाही करते है वो स्वम मालिक होते है

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्री सतगुरु जी आपकी ओट है
    जो संत है वो अनंत होते है उनमे कोई अंतर नहीं होता है वो समय और सामाजिक स्थिति और जीव पर दया करने के लिए समय के अनुसार लिखते है जैसी परस्थिति होती है और जो सहज होता है है वो वाही करते है वो स्वम मालिक होते है

    उत्तर देंहटाएं
  16. लेख अच्छा लगा. जाती के स्थान पर जाति का प्रयोग करना था.

    उत्तर देंहटाएं
  17. मैने मेरे वचपकालमे किसि ट्र्कके आगे लिखे दोहेको आज भि समझ रहा हूँ ,सत गुरु तेरी ओट, ईसका रहस्य मै आज समझ रहा हुँ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैने मेरे बचपनमे ट्रकके सीर और पिछले भागमे लिखे कुछ दोहे पढे थे ,सत गरु तेरी ओट, ईस उक्तिका रहस्य मै आजका दिन समझ रहा हुँ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. हिन्दी साहित्य के भक्ति-युगीन कवियों में कबीरदास का महत्वपूर्ण स्थान है वो पहले ऐसे कवि हैं जिन्होने समाज में फैली कुरीतियों और अंधविश्वास के खिलाफ अपने दोहे, सखियाँ और उलटबासियों द्वारा जागरूकता फैलाई

    उत्तर देंहटाएं
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

Advertisement

इन्हें भी पढ़ें -

नाम

अंग्रेज़ी हिन्दी शब्दकोश,3,अकबर इलाहाबादी,11,अकबर बीरबल के किस्से,58,अज्ञेय,27,अटल बिहारी वाजपेयी,1,अदम गोंडवी,3,अनंतमूर्ति,3,अनौपचारिक पत्र,16,अन्तोन चेख़व,2,अमीर खुसरो,6,अमृत राय,1,अमृतलाल नागर,1,अमृता प्रीतम,5,अयोध्यासिंह उपाध्याय "हरिऔध",4,अली सरदार जाफ़री,3,अष्टछाप,2,असगर वज़ाहत,11,आनंदमठ,4,आरती,9,आर्थिक लेख,5,आषाढ़ का एक दिन,9,इक़बाल,2,इब्ने इंशा,27,इस्मत चुगताई,3,उपेन्द्रनाथ अश्क,1,उर्दू साहित्‍य,176,उर्दू हिंदी शब्दकोश,1,उषा प्रियंवदा,1,एकांकी संचय,7,औपचारिक पत्र,31,कबीर के दोहे,19,कबीर के पद,1,कबीरदास,10,कमलेश्वर,4,कविता,611,कहानी सुनो,2,काका हाथरसी,4,कामायनी,5,काव्य मंजरी,11,काव्यशास्त्र,1,काशीनाथ सिंह,1,कुंज वीथि,12,कुँवर नारायण,1,कुबेरनाथ राय,1,कुर्रतुल-ऐन-हैदर,1,कृष्णा सोबती,1,केदारनाथ अग्रवाल,1,केशवदास,1,कैफ़ी आज़मी,4,क्षेत्रपाल शर्मा,32,खलील जिब्रान,3,ग़ज़ल,80,गजानन माधव "मुक्तिबोध",10,गीतांजलि,1,गोदान,6,गोपाल सिंह नेपाली,1,गोपालदास नीरज,8,गोरा,2,घनानंद,1,चन्द्रधर शर्मा गुलेरी,2,चित्र शृंखला,1,चुटकुले जोक्स,15,छायावाद,6,जगदीश्वर चतुर्वेदी,8,जयशंकर प्रसाद,18,जातक कथाएँ,10,जीवन परिचय,10,ज़ेन कहानियाँ,2,जैनेन्द्र कुमार,1,जोश मलीहाबादी,2,ज़ौक़,4,तुलसीदास,5,तेलानीराम के किस्से,7,त्रिलोचन,1,दाग़ देहलवी,5,दादी माँ की कहानियाँ,1,दुष्यंत कुमार,7,देव,1,देवी नागरानी,23,धर्मवीर भारती,2,नज़ीर अकबराबादी,3,नव कहानी,2,नवगीत,1,नागार्जुन,15,नाटक,1,निराला,27,निर्मल वर्मा,1,निर्मला,26,नेत्रा देशपाण्डेय,3,पंचतंत्र की कहानियां,42,पत्र लेखन,124,परशुराम की प्रतीक्षा,3,पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र',3,पाण्डेय बेचन शर्मा,1,पुस्तक समीक्षा,58,प्रेमचंद,22,प्रेमचंद की कहानियाँ,89,प्रेरक कहानी,15,फणीश्वर नाथ रेणु,1,फ़िराक़ गोरखपुरी,9,फ़ैज़ अहमद फ़ैज़,24,बच्चों की कहानियां,68,बदीउज़्ज़माँ,1,बहादुर शाह ज़फ़र,6,बाल कहानियाँ,14,बाल दिवस,3,बालकृष्ण शर्मा 'नवीन',1,बिहारी,1,बैताल पचीसी,2,भक्ति साहित्य,94,भगवतीचरण वर्मा,5,भवानीप्रसाद मिश्र,3,भारतीय कहानियाँ,59,भारतीय व्यंग्य चित्रकार,7,भारतेन्दु हरिश्चन्द्र,6,भीष्म साहनी,5,भैरव प्रसाद गुप्त,2,मंगल ज्ञानानुभाव,22,मजरूह सुल्तानपुरी,1,मधुशाला,7,मनोज सिंह,16,मन्नू भंडारी,3,मलिक मुहम्मद जायसी,1,महादेवी वर्मा,12,महावीरप्रसाद द्विवेदी,1,महीप सिंह,1,महेंद्र भटनागर,73,माखनलाल चतुर्वेदी,3,मिर्ज़ा गालिब,39,मीर तक़ी 'मीर',20,मीरा बाई के पद,22,मुल्ला नसरुद्दीन,6,मुहावरे,4,मैथिलीशरण गुप्त,8,मोहन राकेश,9,यशपाल,9,रंगराज अयंगर,40,रघुवीर सहाय,5,रणजीत कुमार,29,रवीन्द्रनाथ ठाकुर,21,रसखान,11,रांगेय राघव,2,राजकमल चौधरी,1,राजनीतिक लेख,10,राजभाषा हिंदी,46,राजिन्दर सिंह बेदी,1,राजीव कुमार थेपड़ा,4,रामचंद्र शुक्ल,1,रामधारी सिंह दिनकर,17,रामप्रसाद 'बिस्मिल',1,रामविलास शर्मा,8,राही मासूम रजा,8,राहुल सांकृत्यायन,1,रीतिकाल,3,रैदास,2,लघु कथा,62,लोकगीत,1,वरदान,11,विचार मंथन,60,विज्ञान,1,विदेशी कहानियाँ,16,विद्यापति,4,विविध जानकारी,1,विष्णु प्रभाकर,1,वृंदावनलाल वर्मा,1,वैज्ञानिक लेख,3,शमशेर बहादुर सिंह,5,शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय,1,शरद जोशी,3,शिवमंगल सिंह सुमन,5,शुभकामना,1,शैक्षणिक लेख,9,शैलेश मटियानी,2,श्यामसुन्दर दास,1,श्रीकांत वर्मा,1,श्रीलाल शुक्ल,1,संस्मरण,9,सआदत हसन मंटो,9,सतरंगी बातें,32,सन्देश,11,समीक्षा,1,सर्वेश्वरदयाल सक्सेना,16,सारा आकाश,12,साहित्य सागर,21,साहित्यिक लेख,15,साहिर लुधियानवी,5,सिंह और सियार,1,सुदर्शन,1,सुदामा पाण्डेय "धूमिल",6,सुभद्राकुमारी चौहान,6,सुमित्रानंदन पन्त,16,सूरदास,4,सूरदास के पद,21,स्त्री विमर्श,9,हजारी प्रसाद द्विवेदी,1,हरिवंशराय बच्चन,26,हरिशंकर परसाई,21,हिंदी कथाकार,12,हिंदी निबंध,138,हिंदी लेख,274,हिंदी समाचार,61,हिंदीकुंज सहयोग,1,हिन्दी,5,हिन्दी टूल,4,हिन्दी आलोचक,7,हिन्दी कहानी,31,हिन्दी गद्यकार,4,हिन्दी दिवस,38,हिन्दी वर्णमाला,3,हिन्दी व्याकरण,42,हिन्दी संख्याएँ,1,हिन्दी साहित्य,8,हिन्दी साहित्य का इतिहास,22,हिन्दीकुंज विडियो,11,aaroh bhag 2,13,astrology,1,Attaullah Khan,1,baccho ke liye hindi kavita,54,Beauty Tips Hindi,3,English Grammar in Hindi,3,hindi ebooks,5,Hindi Ekanki,5,hindi essay,130,hindi grammar,49,Hindi Sahitya Ka Itihas,37,hindi stories,435,ICSE Hindi Gadya Sankalan,11,Kshitij Bhag 2,10,mb,72,motivational books,7,naya raasta icse,8,Notifications,5,question paper,8,quizzes,8,Shayari In Hindi,11,sponsored news,2,Syllabus,7,VITAN BHAG-2,5,vocabulary,15,
ltr
item
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika: कबीरदास
कबीरदास
http://3.bp.blogspot.com/_lxzqs1Yxoss/SjM1nS98N9I/AAAAAAAAA70/5CPQdN3pI80/s200/kabeer.jpg
http://3.bp.blogspot.com/_lxzqs1Yxoss/SjM1nS98N9I/AAAAAAAAA70/5CPQdN3pI80/s72-c/kabeer.jpg
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika
https://www.hindikunj.com/2009/06/blog-post_13.html
https://www.hindikunj.com/
https://www.hindikunj.com/
https://www.hindikunj.com/2009/06/blog-post_13.html
true
6755820785026826471
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy