51
Advertisement
लिंग :- "संज्ञा के जिस रूप से व्यक्ति या वस्तु की जाति (स्त्री या पुरूष ) के भेद का बोध होता हो, उसे लिंग कहते है।"

हिन्दी व्याकरण में लिंग के दो भेद होते है - १.पुलिंग २.स्त्रीलिंग

१.पुलिंग :- जिस संज्ञा शब्द से पुरूष जाति का बोध होता है,उसे पुलिंग कहते है। जैसे -पिता ,राजा,घोड़ा ,कुत्ता,बन्दर ,हंस ,बकरा ,लड़का आदि।


२.स्त्रीलिंग :- जिस संज्ञा शब्द से स्त्री जाति का बोध होता है, उसे स्त्रीलिंग कहते है। जैसे -माता,रानी,घोड़ी,कुतिया,बंदरिया ,हंसिनी,लड़की,बकरी आदि।


प्राणीवाचक संज्ञाओ का लिंग निर्णय आसान है,परन्तु अप्राणीवाचक (वस्तु) संज्ञाओ के लिंग निर्णय में परेशानी होती है, क्योंकि हिन्दी व्याकरण में निर्जीव वस्तुओं को भी पुरूष या स्त्री लिंगो में बाटा जाता है। प्रायः प्रयोग या आवश्यकता के आधार पर लिंग की पहचान हो जाती है,फिरभी कुछ ऐसे प्राणीवाचक शब्द होते है,जिन्हें हमेशा स्त्रीलिंग तथा पुलिंग में ही प्रयोग किया जाता है। कुछ संज्ञा शब्द इन नियमों के अपवाद भी होते है।

१.कुछ प्राणीवाचक शब्द हमेशा पुलिंग या स्त्रीलिंग में ही प्रयुक्त होते है।
(अ) पुलिंग - कौवा ,खटमल,गीदड़ ,मच्छर ,चीता,चीन,उल्लू आदि।
(ब ) स्त्रीलिंग - सवारी ,गुडिया ,गंगा ,यमुना ।

२.पर्वतों के नाम पुलिंग होते है। जैसे -हिमालय ,विन्द्याचल ,सतपुडा आदि।
३.देशों के नाम हमेशा पुलिंग होते है। जैसे -भारत ,चीन ,इरान ,अमेरिका आदि।
४.महीनो के नाम हमेशा पुलिंग होते है । जैसे -चैत,वैसाख ,जनवरी ,फरवरी आदि।
५.दिनों के नाम हमेशा पुलिंग होते है । जैसे - सोमवार,बुधवार ,शनिवार आदि।
६.नक्षत्र -ग्रहों के नाम पुलिंग होते है । जैसे -सूर्य,चन्द्र ,राहू ,शनि आदि।
७.नदियों के नाम हमेशा स्त्रीलिंग होते है। जैसे -गंगा ,जमुना ,कावेरी आदि।
८.भाषा-बोलियों के नाम हमेशा स्त्रीलिंग होते है। जैसे -हिन्दी ,उर्दू ,पंजाबी,अरबी,अवधी,पहाडी आदि।

९."अ' से अंत होने वाले शब्द पुलिंग होते है तथा "ई' ,आई ,इन ,इया आदि से समाप्त होने वाले शब्द स्त्रीलिंग होते है। जैसे :- फल ,फूल,चित्र ,चीन आदि पुलिंग शब्द है । लकड़ी ,कहानी ,नारी,लेखनी,गुडिया ,खटिया आदि स्त्रीलिंग शब्द है।
१०.धातुओं ,अनाज ,द्रव्य ,पदार्थ तथा शरीर के अंगो के नाम पुलिंग होते है। जैसे -सोना,तांबा ,पानी,तेल,दूध, आदि।
११.कुछ संज्ञा शब्दों में मादा या नर लगाकर लिंग का प्रयोग किया जाता है।
भेडिया -मादा भेडिया
नर खरगोश -मादा खरगोश
नर छिपकली - मादा छिपकली


नोट - जिस संज्ञा शब्द का लिंग ज्ञात करना हो ,उसे पहले बहुवचन में बदल लिजिए। बहुवचन में बदल लेने पर यदि शब्द के अंत में "एँ" या "आँ" आता है,तो वह शब्द स्त्रीलिंग है, यदि एँ या आँ नही आता ,तो वह शब्द पुलिंग है
उदाहरण:-
पंखा --पंखे --आँ या एँ नही आया---पुलिंग
चाबी --चाबियाँ-- आँ आया है ---स्त्रीलिंग



एक टिप्पणी भेजें

  1. बड़ी उपयोगी जानकारी नेट पर डाल रहे हैं आप यही हिन्दी की असली सेवा है . बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद लाभकारी जानकारी........... ऐसे जानकारी सभी लिखने वालों के लिए उपयोगी है .......... शुक्रिया आपका

    उत्तर देंहटाएं
  3. Ap to achhi jankari blog par de rahe hain...Mere blog par meri bhi Picture dekhen.

    उत्तर देंहटाएं
  4. साहित्य के प्रति आपकी जान्करी और लगन देख कर आश्चर्य् होता ह आपका बहुत बहुत धन्यवाद जो हमे ऐसी महान विभूतियों से प्रिचित करवाते हैं आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरा स्त्रीलिंग - पुल्लिंग सम्बन्धी ज्ञान बहुत कच्चा है, आशा है मैं कुछ सीख सकूँगा... आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  6. राजेश ओझाअगस्त 24, 2011 9:30 am

    हम आपके आभारी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. sir,what is gender of eirth?

    उत्तर देंहटाएं
  8. HAME AMUKYA JANKARIYO SE AVGAT KARANE KE LIYE DHANYAWAD

    उत्तर देंहटाएं
  9. HAME AMUKYA JANKARIYO SE AVGAT KARANE KE LIYE DHANYAWAD

    उत्तर देंहटाएं
  10. mr admin ji aap sudhar kar le aapke istri ling sabd me ghoda ka upyog kiya gaya hai

    उत्तर देंहटाएं
  11. mr admin ji aap sudhar kar le aapke istri ling sabd me ghoda ka upyog kiya gaya hai

    उत्तर देंहटाएं
  12. महोदय मुग़ल का स्त्री लिंग क्या है ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. महोदय मुग़ल का का स्त्री लिंग क्या है ?

    उत्तर देंहटाएं
  14. महोदय मुग़ल का स्त्री लिंग क्या है ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. मय्यतर का स्रीलिँग

    उत्तर देंहटाएं
  16. आमतौर पर भारत में अंग्रेजी के पीछे दीवानगी, रूझान देखा गया है...किसी भाषा को सीखना अच्छी बात है...लेकिन हैरत तो तब होती है जब ज्यादातर लोग ठीक हिंदी भी नहीं बोल पाते हैं....हिंदी की ऐसी-तैसी हमारे कुछ भाई लोग ही करते हैं..जिनकी वजह से अपनी भी हिंदी खराब होती जा रही है...मसलन अगर आपके आस-पास 90 फीसदी लोग गलत हिंदी बोलेंगे तो एकाएक आप पर भी उसका असर पड़ना लाजमी है...जैसे समाचार विभाग में काम करने वाले कुछ भाई लोग कहते हैं : गाड़ी जाता है, जबकि होना चाहिए कि गाड़ी जाती है. ऐसे ही कई और उदाहरण हैं जिसमें लिंग का तो सत्यानाश कर देते हैं, और गर्व से कहते हैं कि अरे आम बोलचाल की भाषा है..ज्यादा ध्यान मत दो...

    उत्तर देंहटाएं
  17. ऋतु पुल्लिंग है या स्त्रीलिंग?

    उत्तर देंहटाएं
  18. उत्तर
    1. साम्राज्ञी आशा करता हूँ आपको यह जवाब उपयुक्त लगा होगा।
      www.hindiencyclopedia.com

      हटाएं
    2. Mera Gyan bahut kam tha

      हटाएं
  19. Bahut achcha h sir sayad ise pad kar bahut sari ling sambandhit galtiya or boli me sudhar aa sakta h mere tarf se aapko thanks

    उत्तर देंहटाएं
  20. मृग का स्त्रीलिंग शब्द क्या है??

    उत्तर देंहटाएं
  21. घास शब्द स्त्रीलिग है या पुर्लिग

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. घास - स्त्रीलिंग

      हटाएं
    2. बेनामीमई 02, 2017 1:56 pm

      Samrat ka gender change kar ke Kya ayega

      हटाएं
    3. बेनामीमई 02, 2017 1:58 pm

      Samrat ka gender change kar ke Kya hai

      हटाएं
    4. सम्राज्ञी - सम्राट का स्त्रीलिंग

      हटाएं
  22. संसय है की विजेता शब्द क्या है?

    उत्तर देंहटाएं
  23. विजेता किस तरह का शब्द है? व्याख्या के साथ बताईये,

    उत्तर देंहटाएं
  24. विद्वान् का स्त्रीलिंग

    उत्तर देंहटाएं
  25. i wnt to know the ling of भक्ति आदर श्रद्धा जिज्ञासा अमरूद केला
    pls help

    उत्तर देंहटाएं
  26. ab श्रद्धा स्त्री लिंग या पुल्लिंग ?

    उत्तर देंहटाएं
  27. उत्तर
    1. भाग्यवान का स्त्रीलिंग - भाग्यवती

      हटाएं
  28. Sir bahut to gender to ab pahchan leta hun lekin kuchh gender pahchan ne me dikkat hota hai jaise himmat takat adalat cinema..

    उत्तर देंहटाएं
  29. उत्तर
    1. राज्यपाल का स्त्रीलिंग राज्यपाल ही होगा . शब्द विभेद नहीं किया जाएगा .

      हटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top