प्रेमचंद

SHARE:

मुंशी प्रेमचंद प्रेमचंद , हिन्दी साहित्य के ऐसे कथाकार का नाम है ,जिनसे साधारण पढ़ा -लिखा भी परिचित है। प्रेमचंद को उपन्यास सम्राट की उ...

मुंशी प्रेमचंद


प्रेमचंद, हिन्दी साहित्य के ऐसे कथाकार का नाम है ,जिनसे साधारण पढ़ा -लिखा भी परिचित है। प्रेमचंद को उपन्यास सम्राट की उपाधि प्राप्त है,किंतु वे जितने बड़े उपन्यासकार थे ,उतने ही बड़े कहानीकार भी थे। महान कहानीकार व उपन्यास सम्राट मुंशी प्रेमचंद का जन्म काशी के निकट लमही ग्राम में सन १८८० में हुआ था। इनके बचपन का नाम धनपत राय था। इनके पिता अजायबराय डाकखाने में लिपिक थे। इनकी माता आनंदी ,इन्हे धनपत पुकारती थी। जब ये सात बर्ष के थे ,तब सन १८८७ में इनकी माता का आनंदी देवी का देहांत हो गया । इनके पिता ने शीघ्र ही दूसरा विवाह कर लिया । धनपत राय का सारा बचपन विमाता के क्रोध ,लांछन तथा मार सहते हुए बीता।

प्रेमचंद
प्रेमचंद
प्रेमचंद को निर्धनता के कारण बचपन से ही संघर्षमय जीवन व्यतीत करना पड़ा। ये हाईस्कूल की कक्षा में पढ़ते हुए टुयुशन करके अपने परिवार का व्यय भार संभालते थे। साहस और परिश्रम द्वारा इन्होने शिक्षा का क्रम जारी रखा । ये एक स्कूल में अध्यापक हो गए। इसी कार्य को करते हुए,उन्होंने बी.ए.की परीक्षा पास की। बाद में ये शिक्षा विभाग में इंस्पेक्टर हो गए। गाँधी जी के सत्याग्रह के आन्दोलन से प्रभावित होकर इन्होंने नौकरी से त्यागपत्र दे दिया और देश -सेवा के कार्य में जुट गए। नौकरी छोड़ने के बाद प्रेमचंद ने 'मर्यादा' ,'माधुरी' और 'जागरण' पत्रों का संपादन किया। इन्होने प्रेस खोला और 'हंस' नामक पत्रिका भी निकाली। जीवन संघर्ष और धनाभाव से जूझता हुआ ,यह 'कलम का सिपाही' स्वास्थ के निरंतर पतन से रोगग्रस्त होकर सन १९३६ में देहांत हो गया।



मुंशी प्रेमचंद ने हिन्दी साहित्य को तिलिस्म और प्रेमाख्यान के दलदल से निकालकर मानवजीवन के सुदृढ़ धरातल पर खड़ा किया । प्रेमचंद ने साहित्य की रचना सामायिक दृष्टिकोण से अत्यन्त रोचक व मार्मिक ढंग से की और उन्होंने जीवन के यथार्थ को कल्पना के मार्मिक रंगों से रंगा। प्रेमचंद ने गद्य साहित्य में युगांतर उपस्थित किया। इनका साहित्य समाज सुधार और राष्ट्रीय भावना से ओत -प्रोत है। इनके साहित्य में किसानो की दीन -दशा ,सामाजिक बन्धनों में तड़पती नारी की पीड़ा ,वर्ण -व्यवस्था की कठोरता से पीड़ित हरिजनों की पीड़ा के चित्र है। इनकी सहानुभूति दलित जनता ,शोषित किसानो तथा उपेक्षित नारियो के प्रति रही है। प्रेमचंद ने साहित्यकार के कर्तव्य के प्रति लिखा है - 'साहित्यकार का काम केवल पाठकों का मन बहलाना नही हैयह तो भाटों और मदारियों ,बिदुषकों और मसखरों का काम हैसाहित्यकार का काम इससे कहीं बड़ा हैवह हमारा पथ-प्रदर्शक होता है,वह हमारे मनुष्यत्व को जगाता है,हममे सद्भावों का संचार करता है,हमारी दृष्टि को फैलाता हैकम से कम उसका यही उदेश्य होना चाहिएइस मनोरथ को सिद्ध करने के लिए जरुरत है कि उसके चरित्र Positive हो,जो प्रलोभनों के आगे सिर झुकाएं ,बल्कि उनको परास्त करें ,जो वासनाओं के पंजे में फसें बल्कि उनका दमन करें ,जो किसी विजयी सेनापति की भाँति शत्रुओं का संहार करके विजय -नाद करते हुए निकलेऐसे ही चरित्रों का हमारे ऊपर सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है।'
प्रेमचंद ने मूलरूप से दो प्रकार के उपन्यास लिखे है- राजनीतिक एवं सामाजिक । इन सभी उपन्यासों की पृष्ठभूमि भारतीय जनजीवन से जुड़ी है। इनके 'वरदान' उपन्यास में मध्यवर्ग की समस्य का चित्रण किया गया है। 'प्रेमाश्रय' में ग्राम्य जीवन ,'सेवासदन 'में स्त्री -विमर्श का वर्णन है। 'रंगभूमि' इनका महा-उपन्यास है। इसका फलक व्यापक तथा इसमे शासक वर्ग के शोषण एवं जनता की शोषित अवस्था का चित्रण है। 'कर्मभूमि' में गाँधीजी के आन्दोलन ,'निर्मला' में अनमेल विवाह तथा 'गोदान' हिन्दी साहित्य का सर्वश्रेष्ठ उपन्यास माना जाता है। गोदान किसान जीवन के संघर्ष को अभिव्यक्त करने वाली सबसे महत्वपूर्ण रचना हैयह प्रेमचंद की आकस्मिक रचना नही है,वरन उनके जीवन भर के सर्जनात्मक प्रयासों का निष्कर्ष हैगोदान एक ऐसे कालखंड की कथा है - जिसमे सामंती व्यवस्था के नियामक किसान और जमींदार दोनों ही मिट रहे है और पूंजीवाद समाज के मजदूर तथा उद्योगपति उनकी जगह ले रहे है
प्रेमचंद के विषय में ,आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी के शब्दों में कहा जा सकता है - 'प्रेमचंद शताब्दियों से पद-दलित और अपमानित कृषकों की आवाज थेपरदे में कैद पद -पद पर लांछि और अपमानित, असहाय, नारी जाति की महिमा के जबरदस्त वकील थे।'

रचना - कर्म :
उपन्यास :- गोदान,सेवासदन ,कर्मभूमि,रंगभूमि ,गबन,निर्मला,वरदान,कायाकल्प ,प्रेमाश्रम
कहानी - संग्रह :- प्रेमचंद की सभी कहानियाँ मान-सरोवर ( आठ- भाग ) में संकलित है।
नाटक :- संग्राम ,प्रेम की वेदी ,कर्बला
निबंध - कुछ विचार ,साहित्य का उदेश्य
संपादन - माधुरी ,मर्यादा ,हंस ,जागरण

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो "हिन्दीकुंज" के प्रशंसक बनिए ना !!

COMMENTS

BLOGGER: 23
  1. बहुत-बहुत धन्यवाद आपका , आपने हिन्दी साहित्य के एक महान उपन्यासकार से रुबरु कराया। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत आभार इस आलेख के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. BAHOOT SHUKRIYA ...... PREM CHAND JI KO JITNA PDHAA HAI .... UNKE LIKHNA BHI SAMAAJ KE MAAN HI AI ......

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप की हिन्दी सेवा स्तुत्य है बहुत बहुत धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  5. subhash kashyap sadar road . ambikapur(c.g) pin 497001नवंबर 18, 2009 3:08 pm

    mujhe munsi pram chand ji ki kahaniya bahut hi achchi lagati hai maine in ki kahaniya apne school ki hindi book me aneko kahaniya padhi thi aur dd1 chainal par bhi stori dekha tha mujhe in ki kahaniyo se jivan ke rahsya ka bhi pata chala . munsi pram chand ek mahan kahanikar hai jinka mere jivan me visesha mahatav hai inhe mai kabhi bhi nahi bhula sakata hun.
    subhash kashyap.sadar road
    ambikapur (c.g)pin 497001

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेनामीमई 01, 2010 10:25 am

    Premchand is the king of kings!!!

    उत्तर देंहटाएं
  7. aaj pahli bar website par etani achchi kahaniya pa kar mai bahut khush hun. mai es website ka bahut dhanyavad.

    ajeet kumar singh
    ajeetdeep85@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. Premchand is now alive between us through his novels. Those novels are very nice. I like them very much.

    उत्तर देंहटाएं
  9. kripya samay-samay par isi prakar ke aalekh prakashit karte rahe, taki logo ka apni sanskriti or hindi sahitya ke prti aakrshan bhde.
    kripya naye lekhko or sahityakaro ke liye bhi ek alag kolam rakhiye taki ham sabhi naye vicharo se rubru ho sake sath hi website ki lokpriyta bhi badhegi. sadhnyavad!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हिन्दी साहित्य के इस महान कहानीकार के बारे मेँ जानकारी देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. premchand ji jaise sahityakar hamare hindi bhasha ke liye shan rahe hain.inke rachnaye padhkar bahot achha laga

    उत्तर देंहटाएं
  12. हिंदी साहित्य के महान कथा सम्राट "मुंशी प्रेमचंद" ने यूं तो ३०० से भी अधिक कहानियां लिखी हैं और ये मेरा सौभाग्य है कि मैंने उनकी लगभग सभी कहानियाँ एक बार नहीं अनेकों बार पढ़ी हैं. 'नमक का दारोगा', 'पंच -परमेश्वर' और 'बूढ़ी काकी' मेरी प्रिय कहानियां हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. i impress your web matter, it's so good for knowledge

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर लेख. कवि जयचन्द प्रजापति'कक्कू' इलाहाबाद
    इमेल. jaychand4455@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

Advertisements

इन्हें भी पढ़ें -

नाम

अंग्रेज़ी हिन्दी शब्दकोश,3,अकबर इलाहाबादी,11,अकबर बीरबल के किस्से,58,अज्ञेय,27,अटल बिहारी वाजपेयी,1,अदम गोंडवी,3,अनंतमूर्ति,3,अनौपचारिक पत्र,16,अन्तोन चेख़व,2,अमीर खुसरो,6,अमृत राय,1,अमृतलाल नागर,1,अमृता प्रीतम,5,अयोध्यासिंह उपाध्याय "हरिऔध",4,अली सरदार जाफ़री,3,अष्टछाप,2,असगर वज़ाहत,11,आनंदमठ,4,आरती,9,आर्थिक लेख,5,आषाढ़ का एक दिन,10,इक़बाल,2,इब्ने इंशा,27,इस्मत चुगताई,3,उपेन्द्रनाथ अश्क,1,उर्दू साहित्‍य,176,उर्दू हिंदी शब्दकोश,1,उषा प्रियंवदा,1,एकांकी संचय,7,औपचारिक पत्र,31,कबीर के दोहे,19,कबीर के पद,1,कबीरदास,10,कमलेश्वर,4,कविता,633,कहानी सुनो,2,काका हाथरसी,4,कामायनी,5,काव्य मंजरी,11,काव्यशास्त्र,1,काशीनाथ सिंह,1,कुंज वीथि,12,कुँवर नारायण,1,कुबेरनाथ राय,1,कुर्रतुल-ऐन-हैदर,1,कृष्णा सोबती,1,केदारनाथ अग्रवाल,1,केशवदास,1,कैफ़ी आज़मी,4,क्षेत्रपाल शर्मा,32,खलील जिब्रान,3,ग़ज़ल,80,गजानन माधव "मुक्तिबोध",10,गीतांजलि,1,गोदान,6,गोपाल सिंह नेपाली,1,गोपालदास नीरज,8,गोरा,2,घनानंद,1,चन्द्रधर शर्मा गुलेरी,2,चित्र शृंखला,1,चुटकुले जोक्स,15,छायावाद,6,जगदीश्वर चतुर्वेदी,8,जयशंकर प्रसाद,18,जातक कथाएँ,10,जीवन परिचय,12,ज़ेन कहानियाँ,2,जैनेन्द्र कुमार,1,जोश मलीहाबादी,2,ज़ौक़,4,तुलसीदास,5,तेलानीराम के किस्से,7,त्रिलोचन,1,दाग़ देहलवी,5,दादी माँ की कहानियाँ,1,दुष्यंत कुमार,7,देव,1,देवी नागरानी,23,धर्मवीर भारती,2,नज़ीर अकबराबादी,3,नव कहानी,2,नवगीत,1,नागार्जुन,15,नाटक,1,निराला,27,निर्मल वर्मा,1,निर्मला,26,नेत्रा देशपाण्डेय,3,पंचतंत्र की कहानियां,42,पत्र लेखन,124,परशुराम की प्रतीक्षा,3,पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र',3,पाण्डेय बेचन शर्मा,1,पुस्तक समीक्षा,60,प्रेमचंद,22,प्रेमचंद की कहानियाँ,89,प्रेरक कहानी,15,फणीश्वर नाथ रेणु,1,फ़िराक़ गोरखपुरी,9,फ़ैज़ अहमद फ़ैज़,24,बच्चों की कहानियां,68,बदीउज़्ज़माँ,1,बहादुर शाह ज़फ़र,6,बाल कहानियाँ,14,बाल दिवस,3,बालकृष्ण शर्मा 'नवीन',1,बिहारी,1,बैताल पचीसी,2,भक्ति साहित्य,97,भगवतीचरण वर्मा,5,भवानीप्रसाद मिश्र,3,भारतीय कहानियाँ,59,भारतीय व्यंग्य चित्रकार,7,भारतेन्दु हरिश्चन्द्र,6,भीष्म साहनी,5,भैरव प्रसाद गुप्त,2,मंगल ज्ञानानुभाव,22,मजरूह सुल्तानपुरी,1,मधुशाला,7,मनोज सिंह,16,मन्नू भंडारी,3,मलिक मुहम्मद जायसी,1,महादेवी वर्मा,12,महावीरप्रसाद द्विवेदी,1,महीप सिंह,1,महेंद्र भटनागर,73,माखनलाल चतुर्वेदी,3,मिर्ज़ा गालिब,39,मीर तक़ी 'मीर',20,मीरा बाई के पद,22,मुल्ला नसरुद्दीन,6,मुहावरे,4,मैथिलीशरण गुप्त,8,मोहन राकेश,9,यशपाल,9,रंगराज अयंगर,41,रघुवीर सहाय,5,रणजीत कुमार,29,रवीन्द्रनाथ ठाकुर,21,रसखान,11,रांगेय राघव,2,राजकमल चौधरी,1,राजनीतिक लेख,11,राजभाषा हिंदी,47,राजिन्दर सिंह बेदी,1,राजीव कुमार थेपड़ा,4,रामचंद्र शुक्ल,1,रामधारी सिंह दिनकर,17,रामप्रसाद 'बिस्मिल',1,रामविलास शर्मा,8,राही मासूम रजा,8,राहुल सांकृत्यायन,1,रीतिकाल,3,रैदास,2,लघु कथा,68,लोकगीत,1,वरदान,11,विचार मंथन,60,विज्ञान,1,विदेशी कहानियाँ,17,विद्यापति,4,विविध जानकारी,1,विष्णु प्रभाकर,1,वृंदावनलाल वर्मा,1,वैज्ञानिक लेख,3,शमशेर बहादुर सिंह,5,शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय,1,शरद जोशी,3,शिवमंगल सिंह सुमन,5,शुभकामना,1,शैक्षणिक लेख,9,शैलेश मटियानी,2,श्यामसुन्दर दास,1,श्रीकांत वर्मा,1,श्रीलाल शुक्ल,1,संस्मरण,9,सआदत हसन मंटो,9,सतरंगी बातें,33,सन्देश,11,समीक्षा,1,सर्वेश्वरदयाल सक्सेना,16,सारा आकाश,12,साहित्य सागर,21,साहित्यिक लेख,17,साहिर लुधियानवी,5,सिंह और सियार,1,सुदर्शन,1,सुदामा पाण्डेय "धूमिल",6,सुभद्राकुमारी चौहान,6,सुमित्रानंदन पन्त,16,सूरदास,4,सूरदास के पद,21,स्त्री विमर्श,9,हजारी प्रसाद द्विवेदी,1,हरिवंशराय बच्चन,26,हरिशंकर परसाई,21,हिंदी कथाकार,12,हिंदी निबंध,151,हिंदी लेख,281,हिंदी समाचार,62,हिंदीकुंज सहयोग,1,हिन्दी,5,हिन्दी टूल,4,हिन्दी आलोचक,7,हिन्दी कहानी,31,हिन्दी गद्यकार,4,हिन्दी दिवस,38,हिन्दी वर्णमाला,3,हिन्दी व्याकरण,43,हिन्दी संख्याएँ,1,हिन्दी साहित्य,8,हिन्दी साहित्य का इतिहास,22,हिन्दीकुंज विडियो,11,aaroh bhag 2,13,astrology,1,Attaullah Khan,1,baccho ke liye hindi kavita,55,Beauty Tips Hindi,3,English Grammar in Hindi,3,hindi ebooks,5,Hindi Ekanki,6,hindi essay,143,hindi grammar,50,Hindi Sahitya Ka Itihas,37,hindi stories,439,ICSE Hindi Gadya Sankalan,11,Kshitij Bhag 2,10,mb,72,motivational books,9,naya raasta icse,8,Notifications,5,question paper,8,quizzes,8,Shayari In Hindi,12,sponsored news,2,Syllabus,7,VITAN BHAG-2,5,vocabulary,15,
ltr
item
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika: प्रेमचंद
प्रेमचंद
https://4.bp.blogspot.com/-YYjmtRTYosQ/W2CHsyixZWI/AAAAAAAAJc8/ELWyi7_-kosan_Sb-F6nRNb-KNF6b7UUACLcBGAs/s200/200px-Premchand02.jpg
https://4.bp.blogspot.com/-YYjmtRTYosQ/W2CHsyixZWI/AAAAAAAAJc8/ELWyi7_-kosan_Sb-F6nRNb-KNF6b7UUACLcBGAs/s72-c/200px-Premchand02.jpg
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika
https://www.hindikunj.com/2009/08/blog-post_26.html
https://www.hindikunj.com/
https://www.hindikunj.com/
https://www.hindikunj.com/2009/08/blog-post_26.html
true
6755820785026826471
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy