0
Advertisement

हम नन्हे नन्हे बच्चे हैं



हम नन्हे नन्हे बच्चे हैं,
नादान उमर के कच्चे हैं,
हम नन्हे नन्हे बच्चे हैं
पर अपनी धुन के सच्चे हैं.
जननी की जय जय गाएँगे,
भारत की ध्वजा उड़ाएँगे.

अपना पथ कभी न छोड़ेंगे,
अपना प्रण कभी न तोड़ेंगे,
हिम्मत से नाता जोड़ेंगे.
हम हिमगिरि पर चढ़ जाएँगे,
भारत की ध्वजा उड़ाएँगे.

हम भय से कभी न डोलेंगे,
अपनी ताकत को तोलेंगे,
जननी की जय जय बोलेंगे .
अपना सिर भेंट चढ़ाएंगे ,
भारत की ध्वजा उड़ाएँगे.



- सोहनलाल द्विवेदी 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top