0
Advertisement

नेता की सूरत 


चोराहे पर कुछ भीड़ दिखी
रुका तो एक नेता की सूरत दिखी
एक खास अंदाज दिखा
एक दमदार आवाज सुनी
कुछ वादे कुछ कसमे
नेता जी 
फिर जनता द्वारा नेता की जय घोष सुनी
समय बिता नेता जीता ,
हार किसकी सिर्फ यह बात नहीं सुनी
सड़के बेहाल ,जनता बेरोजगार ,शिक्षा अपंग ,
विकास  की नहीं बनी कहानी
समय का पहिया कब रुका
नेता वापस किसको दिखा
फिर से जनता के बिच नेता की सूरत नही दिखी
अख़बारों में नाम था
सड़कों पर शुभारम्भ का पैगाम था ,
कहीं बड़े बड़े पोस्टर ,कही कोई घोटाले ,
पर हकीकत में जनता की दुखी बातें
किसी ने नहीं सुनी
विपक्षी नेता ने भाषण दिया ,
पहले उनकी सुनी इस बार हमारी सुनो ,
हम वो सारे काम करेंगे बस
एक बार जीता दो  ,
हम पांच साल के लिए
फिर से आपको लाचार करेंगे
सब हैं एक ही बाग़ की मूली
जनता के साथ खेलते है डंडा गुल्ली
ना  कोई वादा होता पूरा ,
ना कोई नेता कभी हारा ,
हर का वो दर्द अब सुना ,
वो बेचारी जनता थी ,
जीता वो नेता जिससे .
वो हमारे ही मत की ताकत थी ,
फिर क्यों भूले वो हमें ,
क्यों लुटा और क्यों रुलाया हमें ,
समय परिवर्तन का है
जो हमें ही करना है ,
इन भ्रष्टाचारियों का मुहं
 काला हमें ही तो करना है
जगाने का प्रयत्न करता हूँ आपको ,
किसी नेता ने नहीं बक्शा अपने बाप को
सारा काम हमें खुद ही करना है ,
अपने मत का सही जगह उपयोग करना है
लोकतंत्र में ताकतवर जनता होती है ,
नेताओं के पास तो भीख की खाली झोली होती है ,
हर बार वो झोली फैलाते है ,
और हम दान में अपना मत झोली में डालते है ,
पर कब तक , सोचो ,समझो ,परखो ,
जो ताकत जनता के पास है ,
उसकी उनको तलाश है ,
शायद यही बात खाश है ,
लोकतंत्र की ताकत जनता के पास है
बस जरूरत है तो हमें जागने की ,
छोड़ दो आदत भीड़ में भागने की ,
दिखानी है ताकत इन फकीरों को मतदान की ,
फिर कोई हिमाकत नहीं करेगा हमें लुटने की
बस यही  गुजारिश है `अप्रिय` की  ,
मत सुनो कसमे वादे ,
सिर्फ अच्छाई और सचाई सुननी है ,
देश के विकाश की नई कहानी बुननी है ,




-विनोद महर्षि `अप्रिय`
पता - ग्राम पोस्ट - सीतसर तहसील - रतनगढ़ जिला - चुरू ( राजस्थान )
सम्पर्क सूत्र - 9772255022

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top