1
Advertisement

ईद मुबारक


ईद का चांद आज,
मेरी छत पर मुस्कुराया।
धीरे से मेरे कमरे की,
खिड़की पर उतर आया।
ईद मुबारक
ईद मुबारक

बोला मुझसे क्यों,
मेरा दीदार नही करोगे।
मेरी अदा पर प्यार का,
इजहार नही करोगे।

आज मेरे सिर पर तुम्हे,
मुस्लिम की टोपी नजर आती है।
पर शरद पूर्णिमा भी मुझे,
चंदन तिलक लगाती है।

मेरे लिए तो दोनों,
बराबर के त्यौहार है।
मेरा न हिन्दू सा,
न मुस्लिम सा व्यवहार है।

ईद की मुबारक,
में भी मुस्कुराता हूँ।
शरद पूर्णिमा में,
प्रेम का रस बरसाता हूँ।

नफरत की आंधियां,
दिल से नदारत हों।
मेरी तरफ से सभी को,
ईदें मुबारक हों।


- सुशील शर्मा 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top