0
Advertisement

नई सोच  नया आइडिया

आजकल नई सोच और नये आइडिया का जमाना है । पुरानी बातों को खारिज कर नई बातों को अपनाने का युग है । जमाने के साथ कंधा मिलाकर चलना ही होगा । मेरे दिमाग में भी नया आइडिया आया है जो मैं आपके साथ साझा करना चाहता हूं । अब अपने पास बात रखने के दिन गए । जो भी दिमाग में आए तुरंत उसे शेयर करना ही
नई सोच  नया आइडिया
आज का चलन है । पहले जमाने में एक कहानी या कविता लिखने पर उसे अपने पास रखा जाता था, उसके बाद उसमें बार-बार सुधार किया जाता था । उसके बाद ही उसे प्रकाशित करने के लिए भेजा जाता था । अब झटपट का जमाना है । लिखने के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर उसे शेयर कर दीजिए । तुरंत लाइक मिल जाएंगे । अगर लोगों ने ना पसंद किया तो उसपर बहस होगी । सब झटपट ।
और विलंब न कर हाथोंहाथ अपनी बात कहता हूं । हां, इसमें से कुछ बातों सोशल मीडिया में भी घूम रहे हैं । उसमें से कुछ उधार लाकर अपनी तरह उसे पेश कर रहा हूं । 

लक्ष्य - 

पहले जो किया जाता था वह है: पहले लक्ष्य तय किया जाता था । उसके उसे भेद करने के लिए अभ्यास किया जाता था । पहले साधना के बल पर लक्ष्य को साधित किया जाता था । लेकिन अब युग बदल गया है । नया आइडिया । पहले अंधों की तरह गोली चलाओ । तीर चलाओ । जहां निशाना लगा वहीं कहिए कि- यही मेरा लक्ष्य था । उसमें किसी भी तरह की साधना की जरुरत नहीं और लोग भी आपकी तारीफ कर कहेंगे कि आपने कितनी आसानी से लक्ष्य को प्राप्त कर लिया । 

वजन -

मान लीजिए आपका वजन 100किलो है । आपको सभी मोटा कह कर चिढ़ा रहे हैे । आपका मन खराब है । उधर आप वजन कम करने के लिए कुछ करना नहीं चाहते । व्यायाम करके टाइम खराब करना कौन चाहता है ! आप दुसरे तरीके से सोचिए । पृथ्वी में आपका वजन सौ किलो । मंगल में होगा 38 किलो और चंद्र पर सिर्फ 16.7 किलो । क्या समझ रहे हैं ? आपके वजन में कोई मुसीबत नहीं । आप गलत ग्रह में हैं । आपकी जीवनशैली में बदलाव लाने की आवश्यकता नहीं । भोजना कम करने की बिलकुल भी जरुरत नहीं । हो सके तो जितना जल्दी संभव हो दुसरे ग्रह में चले जाएं । 

गंगा माता को दक्षिणा - 

आप अगर कभी बनारस गए हों तो आपने जरूर देखा होगा कि ट्रेन गंगा नदी पर से गुजरते समय कईं लोग नदी में सिक्का डालते हैं । उनका विश्वास है कि इससे पूण्य मिलता है । नदी में सिक्के डालने का एक वैज्ञानिक व्याख्या है पहले जमाने में तांबा से सिक्के बनते थे । तांबा पानी को शोधित करता है । इसीलिए नदी में सिक्के डालने को उत्साहित किया जाता था । लोग तो बिना किसी कारण पानी में सिक्के नहीं डालेंगे इसीलिए कहा गया कि नदी में सिक्के डालने पर पूण्य मिलेगा । हमारे देश में समय के साथ असली उद्देश्य गायब हो जाता है । बाद में उसे रीति रिवाज के नाम पर अंध विश्वास बना दिया जाता है । इसीलिए कईं लोग अब भी पूण्य कमाने के लिए नदी में सिक्का डालते हैं । हमारा नवघन नई सोच में विश्वास रखता है । वह ट्रेन से बनारस जा रहा था । लोगों ने ज्यो गंगा नदी में सिक्का डालना शुरु किया नवघन ने चेक निकाला । उसमें धारक की जगह जय गंगे मय्यां लिखकर चेक के कोने में खाता भुगतानकर्ता लिखा । नीचे लिखा एक लाख रुपये । उसके बाद चेक को गंगा में डाल दिया ।
आसपास के लोगों ने उससे पूछा, यह क्या है ? नवघन ने जवाब दिया-भाई, फिलहाल प्रधानमन्त्री देश को कैशलेस  इकॉनमी बनाना चाहते हैं । इसीलिए वह कहते हैं कि कैशलेस  मतलब कैशलेश । नई सोच । नई योजना 

- मृणाल चटर्जी
अनुवाद- इतिश्री सिंह राठौर


मृणाल चटर्जी ओडिशा के जानेमाने लेखक और प्रसिद्ध व्यंग्यकार हैं।मृणाल ने अपने स्तम्भ 'जगते थिबा जेते दिन' ( संसार में रहने तक) से ओड़िया व्यंग्य लेखन क्षेत्र को एक मोड़ दिया।इनका उपन्यास 'यमराज नम्बर 5003' का अंग्रेजी अनुवाद हाल ही में प्रकाशित हुआ है । इसका प्रकाशन पहले ओडिया फिर असमिया में हुआ । उपन्यास की लोकप्रियता को देखते हुए अंग्रेजी में इसका अनुवाद हुआ है। 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top