16
Advertisement

समास विग्रह

सामासिक शब्दों के बीच के संबंध को स्पष्ट करना समास-विग्रह कहलाता है। जैसे - देशवासी - देश के वासी,तीर्थराज - तीर्थों का राजा,अणुशक्ति - अणु की शक्ति,विद्यालय - विद्या का आलय,घुड़दौड़ - घोड़ों  की दौड़,माता - पिता - माता और पिता ,जयपराजय - जय और पराजय आदि.

हिंदीकुंज.कॉम में समास विग्रह के उदाहरण दिए जा रहे है .जो की निम्नलिखित हैं -

तत्पुरुष समास ( Tatpurush Samas )

पद  - विग्रह

देशवासी - देश के वासी
तीर्थराज - तीर्थों का राजा
अणुशक्ति  - अनु की शक्ति
विद्यालय  - विद्या का आलय
घुड़दौड़ -  घोड़ों  की दौड़
देवसरी -  देवों की साडी
हिमकण - हिम के कण
न्यायालय - न्याय का आलय
नगर संस्कृति  - नगर की संस्कृति
साधना स्थल - साधना का स्थल
व्याघ्र चर्म - व्याघ्र का चर्म
जल यात्रा -  जल की यात्रा
नौकगार - नौका का आगार
धनोपार्जन - धन का उपार्जन
आत्मोत्सर्ग - आत्मा का उत्सर्ग
शर शैय्या - शर की शैय्या
कथा साहित्य - कथा का साहित्य
समुद्र यात्रा - समुद्र की यात्रा
पुत्र वधु - पुत्र की वधु
गिरि कन्दरा - गिरि की कन्दरा
रहस्योद्घाटन - रहस्य का उद्घाटन
भाव विभोर -भाव और विभोर
लक्ष्य भेद -लक्ष्य का भेद
स्वर्गवासी  - स्वर्ग का वासी
धर्मनिष्ठ - धर्म में निष्ठा
रण भेरी - रण की भेरी
मदांध - मद से अँधा
हिमाच्छादित - हिम से अच्छादित

द्वन्द समास Dwand Samas

माता - पिता माता और पिता
हास -परिहास हास और परिहास
ज्ञानविज्ञान -ज्ञान और विज्ञान
रंग विरंगी - रंग और विरंगी
जय पराजय - जय और पराजय
भय संदेह - भय और संदेह
नृत्यगान - नृत्य और गान
अस्त्र शास्त्र - अस्त्र और शास्त्र
ऋषि मुनि - ऋषि और मुनि
जीव जंतु - जीव और जंतु
राग द्वेष - राग और द्वेष
सुख दुःख - सुख और दुःख



कर्मधारय समास Karmadharaya Samas

सुप्रबंध  - सु + प्रबंध
दुव्यर्वहार - दु: + व्यवहार
नव जीवन  - नव + जीवन
चतुर्दिक - चतुर + दिक्
महारथी - महा + रथी
परमवीर - परम + वीर
मधुरस - मधु + रस
सद्गुण - सत + गुण
दुर्दिन - दु: दिन
अनुचर - अनु + चर

अव्ययीभाव समास  (Abvayi Bhav Samas)

सहर्ष - स + हर्ष
भला बुरा - भला या बुरा
युग संचालक - जो युग का संचालक
प्रतिशोध - प्रति + शोध
प्रतिकार - प्रति + कार
प्रति रक्षण - प्रति + रक्षण
पाप पुण्य - पाप या पुण्य
लाभालाभ - लाभ या अलाभ
यथोचित - यथा + चित
प्रतिउत्तर -प्रति +उत्तर
प्रतिरोध  - प्रति + रोध
प्रतिपक्ष -  प्रति पक्ष

बहुब्रीहि समास (Bahuvrihi Samas )

करुणा - अयन जो करुणा के अयन है
लौह पुरुष -लौह सा पुरुष है जो


द्विगु समास  (DVIGU SAMAS )

कोटिमाथ - कोटि + माथ
पंचवटी - पंच + वती
सप्त ऋषि - सप्त + ऋषि
त्रिभुवन - त्रि + भुवन
चौराहा - चौ + रहा
त्रिलोक - त्रि+ लोक
प्रतिवाद -  प्रति + वाद


एक टिप्पणी भेजें

  1. उत्तर
    1. देेेेश्‍ा के ि‍लए भक्‍ि‍त तत्‍पुरूष समास

      हटाएं
    2. tatpurush - desh ke liye bhakti

      हटाएं
  2. देशभक्ति में कोनसा सामस है

    उत्तर देंहटाएं
  3. Swarnabhushan ka vighraha kya hoga?

    उत्तर देंहटाएं
  4. Mahakaleshwar samas vigraha?!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. नौजवान का समास विग्रह

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top