3
Advertisement

गरीब की  मेहनत 

 
    "बाबूजी घर में सारा राशन ख़त्म हो गया अब बचा है तो केवल गर्म पानी I " रौशनी ने कहा 
    "तू चिंता क्यों करती है ?बिटिया ये पाँच सौ रुपये ले राजू राशन वाले की दुकान से राशन ले आ I "
    बाबूजी ने पाँच सौ रुपये रौशनी के हाथों में थमा दिए I रौशनी फिर भी उदासी जगाये चेहरे पर खड़ी I 
गरीब की मेहनत    "क्या हुआ ?"
    "बाबूजी सरकार ने पाँच सौ रुपये बंद कर दिए हैं I हमारे देश में काला धन ज्यादा हैं न I "
    बाबूजी की आँखें बोझिल हो रो उठीं I 
    "तुझे पता है बिटिया ,मैंने ये पैसे कितनी मेहनत से कमाए हैं और तू कहती है बंद हो गए I "
    "मैं सच कह रही हूँ I 
    "रौशनी बिटिया अब मेरे इन रुपयों की कोई अहमियत ही नहीं रही I क्या हम सब भूखे रहेंगे I "
    "बाबूजी नहीं,सरकार नोट के बदले नोट दे रही है बस बैंक में जाना होगा I "
    बाबूजी का चेहरा खिलखिला उठा,मुस्कुराते बोले-"ला बिटिया पाँच सौ रुपये मैं बैंक जाता हूँ I "
    बाबूजी हौले हौले बैंक गए बड़ी लंबी कतार लगी हुई थी फिर भी हिम्मत नहीं हारी आखिर दो घंटे बाद नंबर आ ही गया I रुपये लेकर घर पहुँचे I 
    "बिटिया गरीब की मेहनत कभी बेकार नहीं जाती I "

 रचनाकार परिचय
नाम-  अशोक बाबू माहौर
जन्म -10 /01 /1985
साहित्य लेखन -हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं में संलग्न
प्रकाशित साहित्य-विभिन्न पत्रिकाओं जैसे -स्वर्गविभा ,अनहदकृति ,सहित्यकुंज ,हिंदीकुंज ,साहित्य शिल्पी ,पुरवाई ,रचनाकार ,पूर्वाभास,वेबदुनिया आदि पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित I
साहित्य सम्मान -इ पत्रिका अनहदकृति की ओर से विशेष मान्यता सम्मान २०१४-१५ से अलंकृति I
अभिरुचि -साहित्य लेखन ,किताबें पढ़ना
संपर्क-ग्राम-कदमन का पुरा, तहसील-अम्बाह ,जिला-मुरैना (म.प्र.)476111
ईमेल-ashokbabu.mahour@gmail.com9584414669 ,8802706980 

एक टिप्पणी भेजें

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 19/11/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sunder kahani, jaise es kisan ne ye samajh liya ki garib ki mehnat kabhi bekar nahi jati, vaise hi hamari mehant bhi bekar nahi jayengi, sirf hame sabra karna honga kyoki sarkar jo bhi kadam uthaya hain vo hamari bhalayi ke liye hain.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top