महादेवी वर्मा

SHARE:

विरहपूर्ण गीतों की गायिका महादेवी वर्मा आधुनिक युग की मीरा कही जाती है। इनका जन्म फर्रुखाबाद जनपद में एक संपन्न कायस्थ परिवार में सन १९०...

विरहपूर्ण गीतों की गायिका महादेवी वर्मा आधुनिक युग की मीरा कही जाती है। इनका जन्म फर्रुखाबाद जनपद में एक संपन्न कायस्थ परिवार में सन १९०७ में हुआ था। इनके पिता का नाम गोविंदप्रसाद वर्मा तथा माता का नाम हेमरानी था। प्रयाग महिला विद्यापीठ में कार्य करते हुए सन १९६८ में प्रधानाचार्य पद से आपने अवकाश ग्रहण किया और तब से मानव सेवा तथा साहित्य साधना में तल्लीन रही। आधुनिक हिन्दी साहित्य के ख्याति प्राप्त कवित्रियों में आपका नाम बड़े सम्मान के साथ लिया जाता है। आपको 'पद्मश्री' एवं "भारतीयज्ञान पीठ" की उपाधि से भी सम्मानित किया गया है। ११ सितम्बर १९८७ के दिन महादेवी वर्मा का निधन हो गया ।

महादेवी वर्मा जी वेदनाभाव की कवियित्री है। उन्होंने स्वयं ही स्वीकार किया है की " दुःख मेरे निकट जीवन का ऐसा काव्य है,जो सारे संसार को एक सूत्र में बाँध रखने की क्षमता रखता है। हमारे असंख्य सुख हमें चाहे मनुष्यता की पहली सीढ़ी तक भी न पहुँचा सके ,किंतु हमारा एक बूंद भी जीवन को अधिक उर्वर बनाये बिना नही गिर सकता । विश्व जीवन में अपने जीवन को,इस प्रकार मिला देना ,जिस प्रकार ,एक -एक जल बिन्दु समुद्र में मिल जाता है,कवि का मोक्ष है। मुझे दुःख के दोनों ही रूप प्रिय है,एक वह जो मनुष्य के संवेदनशील ह्रदय को सारे संसार से एक अविछिन्न बंधन में बाँध देता है और दूसरा वह जो काल और सीमा के बंधन में पड़े असीम चेतना का क्रंदन है।" महादेवी जी पीड़ा में प्रियतम और प्रियतम में पीड़ा को खोजती है। उनका कहना है - "पीड़ा मेरे मानस से भीगे पट -सी लिपटी है।" उन्होंने अपना परिचय इस प्रकार व्यक्त किया है :-
"मै नीर भरी दुःख की बदली
परिचय इतना इतिहास यही उमड़ी ,कल थी मिट आज चली


उनके काव्य का आधार वास्तव में प्रेमात्मक रहस्यवाद ही है। उन्होंने अपने अज्ञात प्रियतम को स्वरूपित कर,उससे अपना सम्बन्ध जोड़ा है। उन्होंने अपने रहस्यवाद की अभिव्यंजना को चित्रात्मक भाषा में व्यक्त किया है। उनके काव्य में शुद्ध छायावादी प्रकृति -दर्शन मिलता है।
नीहार ,रश्मि ,नीरजा ,सांध्यगीत ,दीपशिखा और यामा ,आपको प्रसिद्ध काव्य कृति है। प्रथम तीन पुस्तकें एक साथ यामा नाम से भी प्रकाशित हुई है। निहार में इनकी प्रारंभिक कविताओं का संग्रह है। इसमे इनका रहस्यवादी चिंतन बहुत स्पष्ट नही हो पाया है। इसमे प्रकृति प्रेम और व्यक्तियों के बीच रहस्यवाद या अलौकिक प्रेम का चित्रण अधिक है। 'रश्मि' काव्य में महादेवी जी ने जीवन -मृत्यु ,सुख -दुःख आदि पर अपना दृष्टिकोण व्यक्त किया है। नीरजा और सांध्यगीत में उनके गंभीर चिंतन के स्पष्ट दर्शन होते है। जीवन की नस्वरता पर प्रकाश डालती हुए वे कहती है -
विरह का जलजात जीवन,विरह का जलजात
तरल जलकण से बने ,घन -साक्षणिक मृदुगात '
महादेवी वर्मा जी का कलापक्ष भी अत्यन्त उज्जवल है। उन्होंने अपनी सफल काव्य शैली के द्वारा लाक्षणिक प्रयोग कर सूक्ष्मतर भावों को अर्थवत्ता प्रदान की है। उपमा -रूपक अलंकारों का प्रयोग इन्होने बड़ी सफलता के साथ किया है। डॉ.इन्द्रनाथ मदान के शब्दों में - छायावादी काव्य में प्रसाद ने यदि प्रकृति तत्व को मिलाया ,निराला ने मुक्तक छंद दिया,पन्त ने शब्दों को खराद पर चढा कर सुडौल और सरस बनाया ,तो महादेवी जी ने उसमे प्राण डाले ।


महादेवी जी छायावाद के चार स्तंभों में से एक थी। कवियित्री होने के साथ-साथ वे सशक्त गद्य लेखिका भी थी। उनका गद्य साहित्य अपेक्षाकृत अधिक प्रखर और अनुभूति पूर्ण है। 'स्मृति की रेखाएं' ,'अतीत के चल चित्र ','मेरा परिवार' आदि उनकी गद्य रचनाएं है। इन रचनाओं में उन्होंने उपेक्षित प्राणीयों के करुणारंजित चित्र अंकित किए है,जिनके साथ पाठक आत्मीयता का अनुभव करने लगता है। 'पथ के साथी' में लेखिका ने अपने सामयिक साहित्यकारों को अंकित किया है और 'श्रृंखला की कडियाँ' में उन्होंने नारी जगत की समस्याओं को प्रभावशाली ढंग से चित्रित किया है।

रचना -कर्म :-
काव्य - निहार ,रश्मि ,नीरजा ,यामा ,दीपशिखा ,सांध्यगीत ।
आलोचना - हिन्दी का विवेचनात्मक गद्य
संस्मरण एवं रेखाचित्र - अतीत के चल चित्र ,पथ के साथी ,स्मृति की रेखाएं तथा मेरे परिवार
निबंध -संग्रह - साहित्यकार की आस्था ,निबंध,श्रृंखला की कडियाँ
संपादन - चाँद तथा आधुनिक कवि ।

COMMENTS

BLOGGER: 24
  1. सुंदर और सारगर्भि‍त आलेख। आपका लिंक दे रही हूँ। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस बेहतरीन संग्रहणीय आलेख के लिए आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर आलेख।
    रक्षाबंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
    विश्व-भ्रातृत्व विजयी हो!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब ....इतना अच्छा संग्रहण ....महादेवी को पढना अच्छा लगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत कठिन परिश्रम कर रहे हैं आप इस बहुमुल्य आलेख के लिये धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक अच्छा यत्न है..आपके इस अड्डे पर आकर दिल खुश हो गया। आता ही रहूंगा..

    उत्तर देंहटाएं
  7. विरह का जलजात जीवन,विरह का जलजात

    तरल जलकण से बने ,घन -साक्षणिक मृदुगात '
    महादेवी जी के बारे में आप के इस बहुमुल्य आलेख के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. aapka lekhan padne par jivant lagta hai bahut sundar likha hai....meri kahani keval meri ek rachna hai...jise mane likhne ka prayas kiya hai...

    उत्तर देंहटाएं
  9. महादेवीजी पर जानकारी के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. ...हरेक बार कुछ नया ही मिलता है ,धन्यवाद !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. Superb write up and i am so glad to read this information here, Bahut bahut Dhanybad.
    domain registration india

    उत्तर देंहटाएं
  12. Thanks for sharing these info with us! his is a great site. I really like it. Thank you for the site. May God bless you in all your works.SIMRAN

    उत्तर देंहटाएं
  13. sir i cant type hindi,I like your work very much and thankyou

    उत्तर देंहटाएं
  14. hraday prasann ho gaya.... dhanywad!

    उत्तर देंहटाएं
  15. ye website muje exam time m yad aati h to plz help 9639680827 varna exam m fail ho jaunga

    उत्तर देंहटाएं
  16. अहा !!! मेरे मनपसंद सभी साहित्यकारों को एक जगह पाकर मन गदगद हो गया...अंतस से शुक्रिया...jyotsna saxena

    उत्तर देंहटाएं
  17. अहा !!! मेरे मनपसंद सभी साहित्यकारों को एक जगह पाकर मन गदगद हो गया...अंतस से शुक्रिया...jyotsna saxena

    उत्तर देंहटाएं
  18. अहा !!! मेरे मनपसंद सभी साहित्यकारों को एक जगह पाकर मन गदगद हो गया...अंतस से शुक्रिया...jyotsna saxena

    उत्तर देंहटाएं
  19. mujhe ram dhari singh dinkar ki rashimrathi padni hai kirpya pwf font mein uplabdh karwane ki kripa karen

    उत्तर देंहटाएं
  20. जानकारी के लिये धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  21. Aap hindi shahitay aur vyakran se jude prashnawli bhi layein, jishse hamara gyanwardhan ho.

    उत्तर देंहटाएं

Advertisement

नाम

अंग्रेज़ी हिन्दी शब्दकोश,3,अकबर इलाहाबादी,11,अकबर बीरबल के किस्से,58,अज्ञेय,27,अटल बिहारी वाजपेयी,1,अदम गोंडवी,3,अनंतमूर्ति,3,अनौपचारिक पत्र,16,अन्तोन चेख़व,2,अमीर खुसरो,6,अमृत राय,1,अमृतलाल नागर,1,अमृता प्रीतम,5,अयोध्यासिंह उपाध्याय "हरिऔध",4,अली सरदार जाफ़री,3,अष्टछाप,2,असगर वज़ाहत,11,आनंदमठ,4,आरती,9,आर्थिक लेख,5,आषाढ़ का एक दिन,9,इक़बाल,2,इब्ने इंशा,27,इस्मत चुगताई,3,उपेन्द्रनाथ अश्क,1,उर्दू साहित्‍य,176,उर्दू हिंदी शब्दकोश,1,उषा प्रियंवदा,1,एकांकी संचय,7,औपचारिक पत्र,31,कबीर के दोहे,19,कबीर के पद,1,कबीरदास,10,कमलेश्वर,4,कविता,603,कहानी सुनो,2,काका हाथरसी,4,कामायनी,5,काव्य मंजरी,11,काशीनाथ सिंह,1,कुंज वीथि,12,कुँवर नारायण,1,कुबेरनाथ राय,1,कुर्रतुल-ऐन-हैदर,1,कृष्णा सोबती,1,केदारनाथ अग्रवाल,1,केशवदास,1,कैफ़ी आज़मी,4,क्षेत्रपाल शर्मा,32,खलील जिब्रान,3,ग़ज़ल,80,गजानन माधव "मुक्तिबोध",10,गीतांजलि,1,गोदान,6,गोपाल सिंह नेपाली,1,गोपालदास नीरज,7,गोरा,2,घनानंद,1,चन्द्रधर शर्मा गुलेरी,2,चित्र शृंखला,1,चुटकुले जोक्स,15,छायावाद,6,जगदीश्वर चतुर्वेदी,6,जयशंकर प्रसाद,18,जातक कथाएँ,10,जीवन परिचय,3,ज़ेन कहानियाँ,2,जैनेन्द्र कुमार,1,जोश मलीहाबादी,2,ज़ौक़,4,तुलसीदास,5,तेलानीराम के किस्से,7,त्रिलोचन,1,दाग़ देहलवी,5,दादी माँ की कहानियाँ,1,दुष्यंत कुमार,6,देव,1,देवी नागरानी,23,धर्मवीर भारती,2,नज़ीर अकबराबादी,3,नव कहानी,2,नवगीत,1,नागार्जुन,15,नाटक,1,निराला,27,निर्मल वर्मा,1,निर्मला,26,नेत्रा देशपाण्डेय,3,पंचतंत्र की कहानियां,42,पत्र लेखन,120,परशुराम की प्रतीक्षा,3,पांडेय बेचन शर्मा 'उग्र',3,पाण्डेय बेचन शर्मा,1,पुस्तक समीक्षा,51,प्रेमचंद,22,प्रेमचंद की कहानियाँ,89,प्रेरक कहानी,15,फणीश्वर नाथ रेणु,1,फ़िराक़ गोरखपुरी,9,फ़ैज़ अहमद फ़ैज़,24,बच्चों की कहानियां,64,बदीउज़्ज़माँ,1,बहादुर शाह ज़फ़र,6,बाल कहानियाँ,14,बाल दिवस,3,बालकृष्ण शर्मा 'नवीन',1,बिहारी,1,बैताल पचीसी,2,भक्ति साहित्य,91,भगवतीचरण वर्मा,5,भवानीप्रसाद मिश्र,3,भारतीय कहानियाँ,59,भारतीय व्यंग्य चित्रकार,7,भारतेन्दु हरिश्चन्द्र,6,भीष्म साहनी,5,भैरव प्रसाद गुप्त,2,मंगल ज्ञानानुभाव,22,मजरूह सुल्तानपुरी,1,मधुशाला,7,मनोज सिंह,16,मन्नू भंडारी,3,मलिक मुहम्मद जायसी,1,महादेवी वर्मा,11,महावीरप्रसाद द्विवेदी,1,महीप सिंह,1,महेंद्र भटनागर,73,माखनलाल चतुर्वेदी,3,मिर्ज़ा गालिब,39,मीर तक़ी 'मीर',20,मीरा बाई के पद,22,मुल्ला नसरुद्दीन,6,मुहावरे,4,मैथिलीशरण गुप्त,8,मोहन राकेश,9,यशपाल,9,रंगराज अयंगर,40,रघुवीर सहाय,5,रणजीत कुमार,29,रवीन्द्रनाथ ठाकुर,21,रसखान,11,रांगेय राघव,2,राजकमल चौधरी,1,राजनीतिक लेख,10,राजभाषा हिंदी,46,राजिन्दर सिंह बेदी,1,राजीव कुमार थेपड़ा,4,रामचंद्र शुक्ल,1,रामधारी सिंह दिनकर,17,रामप्रसाद 'बिस्मिल',1,रामविलास शर्मा,8,राही मासूम रजा,8,राहुल सांकृत्यायन,1,रीतिकाल,3,रैदास,2,लघु कथा,61,लोकगीत,1,वरदान,11,विचार मंथन,60,विज्ञान,1,विदेशी कहानियाँ,14,विद्यापति,4,विविध जानकारी,1,विष्णु प्रभाकर,1,वृंदावनलाल वर्मा,1,वैज्ञानिक लेख,3,शमशेर बहादुर सिंह,5,शरत चन्द्र चट्टोपाध्याय,1,शरद जोशी,3,शिवमंगल सिंह सुमन,5,शुभकामना,1,शैक्षणिक लेख,9,शैलेश मटियानी,2,श्यामसुन्दर दास,1,श्रीकांत वर्मा,1,श्रीलाल शुक्ल,1,संस्मरण,6,सआदत हसन मंटो,9,सतरंगी बातें,32,सन्देश,11,समीक्षा,1,सर्वेश्वरदयाल सक्सेना,16,सारा आकाश,12,साहित्य सागर,21,साहित्यिक लेख,14,साहिर लुधियानवी,5,सिंह और सियार,1,सुदर्शन,1,सुदामा पाण्डेय "धूमिल",6,सुभद्राकुमारी चौहान,6,सुमित्रानंदन पन्त,16,सूरदास,3,सूरदास के पद,21,स्त्री विमर्श,8,हजारी प्रसाद द्विवेदी,1,हरिवंशराय बच्चन,26,हरिशंकर परसाई,21,हिंदी कथाकार,12,हिंदी निबंध,136,हिंदी लेख,268,हिंदी समाचार,59,हिंदीकुंज सहयोग,1,हिन्दी,5,हिन्दी टूल,4,हिन्दी आलोचक,7,हिन्दी कहानी,31,हिन्दी गद्यकार,4,हिन्दी दिवस,38,हिन्दी वर्णमाला,3,हिन्दी व्याकरण,42,हिन्दी संख्याएँ,1,हिन्दी साहित्य,8,हिन्दी साहित्य का इतिहास,22,हिन्दीकुंज विडियो,11,aaroh bhag 2,13,astrology,1,Attaullah Khan,1,baccho ke liye hindi kavita,53,Beauty Tips Hindi,3,English Grammar in Hindi,3,hindi ebooks,5,hindi essay,128,hindi grammar,49,Hindi Sahitya Ka Itihas,37,hindi stories,432,ICSE Hindi Gadya Sankalan,11,Kshitij Bhag 2,10,mb,72,motivational books,5,naya raasta icse,8,Notifications,5,question paper,8,quizzes,8,Shayari In Hindi,11,sponsored news,2,Syllabus,7,VITAN BHAG-2,5,vocabulary,13,
ltr
item
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika: महादेवी वर्मा
महादेवी वर्मा
हिन्दीकुंज,Hindi Website/Literary Web Patrika
http://www.hindikunj.com/2009/08/blog-post.html
http://www.hindikunj.com/
http://www.hindikunj.com/
http://www.hindikunj.com/2009/08/blog-post.html
true
6755820785026826471
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS PREMIUM CONTENT IS LOCKED STEP 1: Share to a social network STEP 2: Click the link on your social network Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy