0
Advertisement

वसंत 



कर लिए पलाश माल,
स्वयंबरा वसंत है।

उजली सी धूप लिए,
भोर मग्न हो रही।
वसंत
हरी दूब फुनगियों पर,
ओस सपन बो रही।

निकला मन सज धज के,
कामना अनंत है।

नूतन हैं पर्णवृंत,
कलियाँ हैं मनचली।
हरी हरी घास पर ,
तितलियाँ मटककली।

मनुहारों के मौसम में,
बिखरा वसंत है।

पिक भ्रमर गूँज करें ,
पुलकित है प्रणय मान ।
लोहित नभ गोधूलि भरा,
करता नव सांध्य गान।

मोहक तन पुलक गंध,
फैली अंतस अनंत।



-नवगीत 
सुशील शर्मा 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top