0
Advertisement

मेरे कदम


शूल प्रस्तर बिछे पथ पर
मेरे कदम चलते रहे।
मेरे कदम

पीर पर्वत सी उठी है,
कसक की कुछ फुनगियाँ हैं।
अनकही कुछ व्यथा मन की ,
मौन सी अभिव्यक्तियाँ हैं।

है अखंडित सत्य दुःख का
दर्द मन पलते रहे।

आस्तीनों में सांप भी,
अब ख़ुशी देते मुझे।
घृणा की बौछार में ,
नेह के दीपक बुझे।

आग रिश्तों में लगी है
और हम जलते रहे।

आज फिर से मैं छपा हूँ,
वेदना के अख़बार में।
मैं अकेला और तनहा,
दर्द के बाजार में।

हम बिके उनके लिए,
वो हमें छलते रहे।


(नवगीत)
-सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top