1
Advertisement

कोई मासूम आबरू खोती है


दिल भर आता है।
आँख भी रोती है।
जब कोई मासूम,
कोई मासूम आबरू खोती है
आबरू खोती है।
पांव में पायल,
बालों में चिमटी,
हाथों में छोटा,
सा कंगना भी,
शोर करता है।
जब कोई अधेड़,
फूल सी नाजुक,
बच्ची को नोचता है।
मासूम सी वो ,
गुड़िया जाने क्यों
और कैसे हवस,
का शिकार होती है।
आँख भर आती हैं
माँ की दूध की,
छाती भी रोती है।
यकीन नही होता
मुझे पढ़कर भी
ख़बरों को रोज
कैसे कोई कुचल
सकता हैं कमजोर
कलियों को इतनी
बर्बरता से की
मानवता शरमाती है।
जब दो महिने की
नन्ही गुड़िया 
लहूलुहान हो जाती हैं।।
फटा कलेजा धरती का,
जब डॉक्टर भी
रो जाता हैं।
हाय फूल सी 
नाजुक चिड़िया
नोंच कोई 
खा जाता है।
लिखने में आज तो,
कलम भी मेरी रोती है।
यहाँ रोज कोई मासूम 
अपनी आबरू खोती हैं।।




संध्या चतुर्वेदी,लेखन दो सालों से विभिन्न अखबारों और पत्रिकाओं में।चार सम्मान पत्र मिल चुके है, चार सांझा संकलन प्रकाशित हो चुके है।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top