0
Advertisement

अपमान


अपमान का घूँट पीकर बच्चों की खातिर,
चुप रहती है नारी,
नारी
समाज में जगहँसाई न हो इस कारण,
चुप रहती है नारी,
माँ-बाप ने जो संस्कार दिए इस कारण,
चुप रहती है नारी,
नारी की खामोशी को कमज़ोरी न समझो,
दया,वात्सल्य,ममता हथियार हैं उसके,
फिर भी घर को बिखरने से बचाने की खातिर,
चुप रहती है नारी,
अपमान का ....
             






- रश्मि  श्रीधर 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top