0
Advertisement

अब बस और नहीं


इति और भौमिक का प्रेम विवाह हुआ था। पर हर प्रेम छू मंतर हो जाता है जब जीवन की वास्तविकता के
दहेज हत्या
धरातल पर कदम पड़ते है । इति के साथ भी ऐसा ही था । वह बुद्धिमता और सुंदरता का संगम थी और साथ ही संस्कारी भी । इसलिए हर रिश्ते की अहमियत समझती थी । पर इसी बात को सबने उसकी कमजोरी मान लिया था । और संस्कारों तथा पारिवारिक नैतिक आवश्यकताओं के चलते उसे हर बात पर समझौता करने पर मजबूर किया जाता था।  कब वह एक पढ़ी लिखी लड़की से गृहणी बन गई , पता ही नहीं चला । पति उसकी उच्च योग्यता से चिढ़ने लगा था तो वह भी बाकी परिवार के साथ मिलकर उसे अपमानित तथा  शोषित कर ता था । वह सोचती थी कि इतनी जल्दी तो गिरगिट भी रंग नहीं बदलता जितनी जल्दी ये लोग रंग बदलते हैं ।

उसको अब मानसिक रोगी घोषित करने की कोशिश की जाने लगी ।  और फिर एक दिन ... उसको जलाने की कोशिश ...।  इति ने बचाने की गुहार की पर किसी ने न सुना । अचानक से  इति ने लपक कर अपनी ननद को पकड़ लिया । यह देखकर ससुराल वाले उन्हें अलग करने दौड़े । पर इति ने उसे न छोड़ा । दोनों ही जल गए । लेकिन इति बच गई और उसकी ननद बुरी तरह जल गई । अस्पताल में ,उसने अपने ससुराल वालों से सिर्फ इतना ही कहा ,"अपनी बेटी का जला चेहरा  देखकर अब सारी उम्र तुम लोगों को याद रहेगा कि तुमने मुझ निर्दोष पर कितने अत्याचार किए ।  मैं तो बच जाऊंगी और तुम्हारे खिलाफ मुकदमा करके कड़ी से कड़ी सजा दिलवाऊंगी । तभी तुम जैसे लोगों के अत्याचार की श्रृंखला पर पूर्ण विराम लगेगा .अब बस और नहीं....।


- इला श्री जायसवाल
नोएडा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top