1
Advertisement

पेड़ लगाओ 


पेड़ लगाओ बचाओ वन
 वृक्ष लगाकर बचाओ जीवन
 पर कट रहे हैं वन 
बन रहे हैं भवन 
पेड़ लगाओ
पेड़ लगाओ
भागदौड़ में कौन किसकी सुने 
भवनों में मजे से चल रहा है जीवन
 वह जीवन जिसमें आनंद की धार नहीं
 वह घर जिसमें वृक्ष छायादार नहीं
 वह चमन जिसमें अब फूल खुशबूदार नहीं
 अंधी दुनिया को कैसे समझाऊं 
बिन वृक्ष जीवन का आधार है नहीं
 वह चमन कहां अब 
वह शीतलता कहां अब
बिन वृक्ष जीवन कहां अब
 इक घुटन सी है अब
 जीवन बस कारोबार है अब
 स्वार्थ में खो गए हम
 ध्यान नहीं निज भलाई का
 प्रकृति के लिए  वह मन कहां अब
 आंखों के अंधे मत बनो 
निज स्वार्थ में मत झूलो 
अपराधी प्रकृति के मत बनो
 निज स्वार्थ में गर झूमोगे 
प्रकोप प्रकृति का सहोगे 
समय है अभी भी चेत जाओ
 चहुं दिसि अब पेड़ लगाओ
 यह पेड़ है कोटर पंछियों के
 पेड़ है पूजा ऋषियों की 
 यह जीवन धारा है इस जीवन की
 मत भूलो गाथा वन की 
गर हर इक पेड़ इक लगाएं 
तो संपूर्ण धरा पर शीतलता छाए 
जीवनदान हम सब  पा जाएं
 पंछी भी झूम के गाएं
सावन में घनघोर घटा छा जाए 
मयूर नाचे पपीहा गाए
घटा हरियाली की झूम के आए
 वातावरण सुखद बन जाए 
स्वस्थ समास ले लंबी उम्र पाएं
 पुष्पों के झुरमुट लहराए 
तितली संघ भ्रमर मंडराए
गर करें हम इतना सा काम 
स्वस्थ सुखद यह हिंदुस्तान बन जाए


- विनोद महर्षि (अप्रिय)
9772255022

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top