0
Advertisement

माँ आशुतोषी



आदि माता नर्मदे आत्मपोषी।
माँ आशुतोषी माँ आशुतोषी।

उमारूद्रांगसंभूता,हे पावन त्रिकूटा।
माँ आशुतोषी
माँ आशुतोषी
ऋक्षपादप्रसूता,रेवा ,चित्रकूटा।
सर्व पाप विनिर्मुक्ता ,हे नर्मदे

पुण्य संगम ,,पारितोषी।
माँ आशुतोषी, माँ आशुतोषी।

दशार्णा ,शांकरी ,मुरन्दला।
इन्दुभवा ,तेजोराशि,चित्रोत्पला।
दुर्गम पथ गामनी,हे नर्मदे ,

महार्णवा ,मुरला, सुपोषी।
माँ आशुतोषी, माँ आशुतोषी।

विदशा ,करभा ,विपाशा।
रंजना ,मुना ,सुभाषा।
अमल शीतल सतत,हे नर्मदे।

अविराम, सुपथ, शत कोषी।
माँ आशुतोषी, माँ आशुतोषी।

विमला ,अमृता,शोण ,विपापा।
महानद ,मन्दाकिनी,अपापा।
नील धवल जल ,हे नर्मदे।

रम्य अहिर्निश ,सहस्त्र कोशी।
माँ आशुतोषी, माँ आशुतोषी।


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top