0
Advertisement

हाइपोमेनिया (व्यंग)


इमोजी
ऐसा लगता है हम लोग कुछ अधिक आराम तलब हो गये हैं। जो कुछ भी महनत करते हैं वो भी इसलिए की आराम के साधन जुटा सकें। इस आराम की चाहत में हमने ऐसे साधन जुटा लिये और जुटाते जा रहे हैं कि हमारा शारीरिक श्रम ही नहीं चेष्टायें भी न्यूनतर होती जा रहीं हैं।

कुछ व्याधियों में व्यक्ति के चेहरे की मास पेशियाँ कम गतिशील हो जाती हैं चेहरा मास्क की तरह स्थिर भाव में दिखायी पड़ता है इसे हाइपोमीमिया कहते हैं।

आजकल फेसबुक और व्हाट्सप जैसे एप्स पर इमोजी और स्माइली हमारी भाव अभिव्यक्ति के लिये उपलब्ध हैं। इससे सुविधा ये है हम बिना मुस्काए मुस्करा सकते है। बिना हँसे हंस सकते हैं और बिना दुखी हुए भी दुखी हो सकते हैं इत्यादि।

मैं कभी कभी सोचता हूँ क्या भविष्य में ऑफिस में या ऐसे स्थानों या समारोह में जहां दो चार लोगो से आमने सामने मिलना हो लोग अपनी जेबों में प्रतिक्रिया व्यक्त करने के लिये इमोजी या स्माइली के कार्ड रखा करेंगे? कौन जाने!



- रवि रंजन गोस्वामी
सह आयुक्त सीमाशुल्क (निवारक)
कोचीन (केरल)
मोबाइल 9895596826

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top