0
Advertisement

गौरैया उड़ी



गौरैया उड़ी।
तिनके बीने।
मुनिया की खिड़की पर।
एक घोंसला।
गौरैया
गौरैया
बिजली के लट्टू सा।

मुनिया ने देखे।
घोंसले में ,
दो तीन अण्डे।
सेती गौरैया
मुनिया हँसी।

आंधी आई।
गौरैया चिचिआई।
मुनिया भागी।
घोंसला टूटा।
अण्डे फूटे।
गौरैया चुप थी
मुनिया रोई।



- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top