0
Advertisement

कृष्णा सोबती का 94 साल की उम्र में निधन


कृष्णा सोबती का 94 साल की उम्र में निधन कृष्णा सोबती भारतीय साहित्य के अग्रणी नामों में एक थीं। वह न सिर्फ कथाकार थीं, बल्कि प्रतिरोध की सशक्त 
 कृष्णा सोबती

कृष्णा सोबती
आवाज़ थीं। इस साल 11 जनवरी को 94 साल की उम्र में उनका उपन्यास ‘चन्ना’ प्रकाशित हुआ। अपने अंतिम समय में भी वे नए साहित्य की जानकारी एवं उसपर चर्चाएं करती रहती थीं। एक लेखक का जीवन इससे ज्यादा उद्दात और कैसे हो सकता है कि अंतिम समय में भी वह साहित्य से जुड़ा हो ! लेखक एवं लेखन की स्वतंत्रा को लेकर हमेशा मुखर रहने वाली कृष्णा जी ने पद्मभूषण एवं व्यास सम्मान लेने से इंकार कर दिया था । उन्हें हम लेखक के प्रतिरोध का स्वरूप भी कह सकते हैं। दो साल पहले विभाजन रेखा को आर पार से देखता उनका उपन्यास ‘गुजराज पाकिस्तान से गुजरात हिन्दुस्तान’ राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित हुआ था। हमें गर्व है कि कृष्णा जी का संपूर्ण साहित्य राजकमल प्रकाशन से प्रकाशित है। ये क्षण साहित्यजगत के लिये शोकमय क्षण है, राजकमल प्रकाशन समूह के लिये यह एक निजी क्षति है।



Krishna Sobti was one of the leading names of Indian literature. She was not just a story writer, but a strong voice of resistance. On January 11 this year, her novel 'Channa' was published at the age of 94. In her last hour, she continued to talk about new literature and discuss about it. Krishna ji, who always remained vocal about the freedom of author and their writing, refused to accept Padma bhushan and Vyas Samman. She was the leading voice of author's resistance. Two years ago, her novel 'Gujrat Pakistan Se Gujarat Hindustan ' was published from Rajkamal Prakashan. We are proud that the entire literature of Krishna ji is published from Rajkamal Prakashan. This moment is a sad moment for literature, at the same time it is a personal loss for the Rajkamal publishing group.  


एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top