1
Advertisement

हमने दुनिया में आके क्या देखा 



हमने दुनिया में आके क्या देखा .
बहादुर शाह ज़फर
बहादुर शाह ज़फर
देखा जो कुछ सो ख़्वाब-सा देखा ..

है तो इन्सान ख़ाक का पुतला .
लेक पानी का बुल-बुला देखा ..

ख़ूब देखा जहाँ के ख़ूबाँ को .
एक तुझ सा न दूसरा देखा ..

एक दम पर हवा न बाँध हबाब .
दम को दम भर में याँ हवा देखा ..

न हुये तेरी ख़ाक-ए-पा हम ने .
ख़ाक में आप को मिला देखा ..

अब न दीजे "ज़फ़र" किसी को दिल .
कि जिसे देखा बेवफ़ा देखा..






बहादुर शाह ज़फर (1775-1862) भारत में मुग़ल साम्राज्य के आखिरी शहंशाह थे और उर्दू के माने हुए शायर थे। 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top