0
Advertisement

दर्द 



कभी उनके लिए  कुछ न हो सके
हम रोते रहे हर पल
वो अपना लम्हा भी न भीगा सके
कितना आसान हो गया उनके लिए
दर्द
थाम कर किसी का हाथ साथ चलना
हमे ही न जाने कैसी थी उल्फत उनसे
चाहा जब से उन्हें .........
किसी ओर को न चाह सके
कितनीआसान हो गई जिंदगी उनकी
एक साथ छोड़कर हमारा
ये कैसा दर्द था उनके बिछड़ने का
जो बरसो बाद भी हम सो न सके
कभी यादो ने तो कभी आहटो ने जगा दिया
कभी उनकी बेरुखी तो कभी मोह्बत ने रुला दिया
सोचते है अब अलविदा कह दे
जैसे रखते है वो फासले दरमियां
अब रिवाज ये उल्फत का हम भी निभा दे
हम शायद न मुस्कुरा सके उनके बिन
हो सके तोड़ कर हर रिश्ता हमसे
वो खिलखिला दे.......................
समझ ही न सके दरमियां
जो ठहरा है वो एक धुन्ध है
या कि दिल को किसी भरम ने घेरा है
अक्सर घेर लेते है दिल के सवाल ही
पूछते है कोई अपना था या मुसाफिर था
अपना था तो छोड़ क्यों गया
औऱ मुसाफिरो की याद कैसी
क्या दे जवाब दिल के इन सवालों का
शायद आदत हो गई जिंदगी को उनकी
बेरुखी की...................................
मोह्बत भी कहा किसी की रास आती है
मिलता है शुकन इस दर्द में भी
अच्छी लगती है वो याद जो अक्सर रुलाती है



- रूबी श्रीमाली 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top