0
Advertisement

ज़िन्दगी एक किताब है



ज़िन्दगी एक किताब है ,
जो हर दिन एक नया पन्ना खोलती है
ज़िन्दगी

भाग दौड़ है और फुर्सत नहीं,
पर हर दिन एक नया रंग घोलती है,

बचपन से जवानी, जवानी से बुढ़ापा,
कितनी तेजी से दौड़ती है ,

कितनो ने साथ दिया, कितने छोड़ गए,
ये हर पल का हिसाब लेती  है,

इसके फलसफे बड़े अजीब से है,
मिजाज जब तक अच्छा हे तो ठीक
नहीं तो धोके से साथ छोड़ती है !!



- हर्षा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top