0
Advertisement

तुम्हारे लिए



तुम्हारे लिए
प्यार
मेरा प्यार
दूब की तरह है
अमरत्व लिये हुए
यह जीवित रहेगा
हर परिस्थिति में
जैसे जीवित रहती है दूब
दुर्भिक्ष-अकाल में भी.









- तरु श्रीवास्तव

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top