0
Advertisement

सार्थक सोच


महमूद दस वर्ष का मासूम  लड़का था।वह अपनी साठ वर्षीय बूढ़ी दादी माँ के साथ रहता था।उसके माता पिता एक दुर्घटना में चल बसे थे।बूढ़ी अम्मा महमूद को देखकर अपने भाग्य को कोसती रहती थी। 

मिठाइयां
दीपावली का दिन था।आस पड़ोस के सभी बच्चे बाजार से पटाखे,फुलझड़ी ,मिठाइयांआदि लेने बाजार जा रहे थे। चारों तरफ चहल पहल थी।सभी बच्चे अपने मम्मी पापा से पैसे लेकर खरीददारी करने जा रहे थे।

महमूद का एक साथी था गोलू। गोलू ने अपने पिता जी से पटाखों के लिए 200 रुपये लिए।वह 200 के पटाखे लेने की बजाए 50 रुपये के पटाखे खरीदता है और 150 की मिठाई खरीद कर महमूद को दे देता है।

महमूद यह देखकर सोचता है कि आज मेरे पास भगवान आ गया है।जब उसे दो वक्त की रोटी नसीब न होती थी उसे मिठाई मिल गई। गोलू ने महमूद से कहा-पटाखे तो दो मिनट में भड़ भड़ करके शोर व वायु प्रदूषण पढ़ाएंगे। हम एक दूसरे की सहायता करके दीपावली मना सकते हैं। 

महमूद की आँखों में आँसू भर आए क्योंकि वह सोचता है कि यदि ऐसी करुण सोच सबकी हो जाए तो हर दिल में दिवाली जगमग हो सकती है। इससे शोर,वायु व मन का प्रदूषण भी समाप्त हो जाएगा।आपस में भाई चारा भी बढ़ेगा।




- अशोक कुमार ढोरिया
मुबारिकपुर(झज्जर)
हरियाणा
सम्पर्क 9050978504

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top