0
Advertisement

पटाखे


कितने अजीब हैं, पटाखे
पटाखे
पटाखे
गरीबी- अमीरी की खाई खोदते
जिसके पास ज्यादा होते
वे अमीर हैं दिखते
न जाने कितनो  को अपंग बनाते
पर फिर भी लोग खरीदते हैं, पटाखे
उससे भी ज्यादा अजीब हैं, हम
पढ़े- लिखे गवार हैं, हम
अपने ही हाथो, प्रकृति का कत्ल करते हैं, हम
न जाने क्यों पटाखे खरीदते हैं, हम

जरा सोचो अगर, न होते ये पटाखे
शांत सी ये प्रकृति, शांत सा ये देश
लगती राम नगरी सी, प्रभु घर आते
आती फिर माँ लक्ष्मी भी, पर फिर भी
न जाने क्यों लोगो को अच्छे लगते हैं
ये पटाखे..





  -राजेन्द्र कुमार शास्त्री ( गुरु ) 
सम्पर्क सूत्र - rk399304@gmail.com 
                                                                                                        मोबाइल - 9672272740                                                    

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top