0
Advertisement

मेहनत ही सफलता की कुंजी 


एक किसान था बहुत बूढा
लेकर  बैठा  था  वो  मूढा।

पुत्र  थे  उसके  अपने चार
सफलता 
थे सब के सब बेरोजगार।

आपस  में  लड़ते थे  भाई
करते  नहीं  थे  वे  समाई।

किसान ने नसीहत  लगाई
कुछ  काम करो  मेरे भाई।

बेटों को बात समझ आई
तभी उन्होंने  फाली उठाई।

सबने मेहनत कर  दिखाई
नेक सफलता उनको पाई।

सब में एक आवाज़ गूँजी
मेहनत सफलता की कुंजी।




- अशोक कुमार ढोरिया
मुबारिकपुर(झज्जर)
हरियाणा
सम्पर्क 9050978504

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top