1
Advertisement

लक्ष्मी पूजन 


दीपावली का अवसर था ӏ गाँव के सभी घरों में दीपावली पर्व की रौनक छाई हुई थी ӏ गाँव में छोटी बड़ी सभी दूकानों पर अलग-अलग तरह के पटाखों, फुलझड़ियों, अनार व रोकेटो के ढेर लगे हुए थे ӏ लेकिन पांच  वर्षीय विवेक उदास मुहं से घर में दस्तक देता है ӏ  वह जैसे ही घर में प्रवेश करता है, उसकी माँ उसे आवाज देते हुए कहती है, `` आ गया मेरा राजा बेटा ӏ चल इधर आ ӏ तेरा मुहं यूं उदास क्यों है?`` 
`` कुछ नहीं माँ बस यूँही ӏ  क्या तुम मुझे पटाखे दिला सकती हो?``, छोटे से विवेक ने अपनी माँ से हिचकिचाते हुए पुछा ӏ
`क्यों नहीं ये ले 20 रुपये और जो पटाखे तुझे अच्छे लगे जाके ले आ ӏ`, उसकी माँ उसे बीस रूपये का एक नोट देते हुए कहती है ӏ
लक्ष्मी पूजन
लक्ष्मी पूजन
विवेक बीस  रूपये लेकर खुश हो जाता है ӏ  वह जब दौड़ता हुआ दूकान की तरफ जाता है, तो अचानक बिच रास्ते में उसे उसका पिताजी हरिराम मिल जाता है ӏ वह उससे पूछता है, `ये पैसे किसने दिए रे तुझे?`  
 `माँ ने`, विवेक ने  मुस्कुराते हुए कहा ӏ 
`` ला इधर ला नालायक कही का ӏ पैसे पेड़ पर उगते है क्या?``, फिर वह झपट्टा मारकर विवेक से पैसे छीन लेता है ӏ   ``ऐ! कुलछनी तेरे पास इसे देने के लिए बीस रूपये आ गए और मेरे लिए बिल्कुल नहीं ӏ``, हरिराम ने घर में आकर अपनी पत्नी से क्रोधित होकर कहा ӏ 
``मेरे पास दारू के लिए पैसे नहीं है ӏ ``

``क्या कहा तेरी तो मैं?``,   फिर वह लक्ष्मी के दो चार लातो की मारता है ӏ बेचारी लक्ष्मी चीखे मारती है ӏ  वह उससे बाकि के पांच सौ रूपए भी छीन लेता है ӏ पैसे छिनने के बाद वह दारू के ठेके की तरफ निकल पड़ता है ӏ लक्ष्मी आँगन में निढाल होकर गिर पड़ती है ӏ विवेक उसे पानी पिलाता है ӏ फिर वह उसके आंसू पोंछते हुए कहता है,`` माँ!  आप बाबा को पैसे दे देती ӏ मुझे नहीं छोड़ने हैं  पटाखे वटाखे ӏ `` 
यह पहला मौका नही था जब  हरिराम ने लक्ष्मी को पीटा था ӏ इससे पहले भी उसने लक्ष्मी की काफी बार पिटाई की थी ӏ वह इसी तरह आए दिन पैसो के लिए  लक्ष्मी की पिटाई करता रहता था ӏ कमाता-धमाता बिल्कुल भी नहीं था ӏ उल्टा जो कोई लक्ष्मी नरेगा से कमाकर लाती, वह उन्हें भी दारू पीने के लिए छीन लेता ӏ जब लक्ष्मी पैसे नहीं देती तो उसकी बेहरमी से पिटाई करने लग जाता ӏ जब पिटाई करने का कोई बहाना नहीं होता तो चरित्रहीन होने का लाछन लगाकर उसकी पिटाई करने लग जाता ӏ कभी पडौस के रामचंद्र का नाम लगाता तो कभी सुधेश का ӏ   यूँ समझ लो सीता सी पवित्र स्त्री पर यह रावण  जुल्म ढहाने की कोई कसर नहीं छोड़ता ӏ आज भी सभी मौहल्ले वासियों ने उसकी चीख-पुकार सुनी पर किसी ने भी ध्यान नहीं दिया ӏ सभी को अपने काम से मतलब जो था ӏ वह इस पुरुष प्रधान समाज में अकेली महिला थोड़े ही थी ӏ अन्य भी बहुत सी महिलाऐं उसके पडौस में रहती थी ӏ लेकिन मियां-बीबी के झगड़े में आखिर कौन सरीख होए? वैसे भी उन मौहल्ले वासियों के पास करने को बहुत से काम थे ӏ वे अपने घर में दिवाली के पकवान बनाने में व्यस्त हो गए ӏ 
लेकिन लक्ष्मी के  घर के चूल्हे में अब तक आग नहीं जली थी ӏ उस बेचारी के लिए तो त्यौहार का मतलब ही दरिंदगी से पिटाई खाना था ӏ वह बेचारी और कर भी क्या सकती थी? इस बलिष्ठ पुरुषो के समाज में वही तो एक मात्र कमजोर इन्सान थी ӏ पर फिर भी रामचंद्र को उसकी दशा पर कभी-कभी दया आ जाती थी ӏ वह अपनी पत्नी से चोरी छुपे उसकी आर्थिक मदद कर देता था ӏ लेकिन उसकी इस  आदत का कभी-कभी लक्ष्मी को विपरीत परिणाम भी भुगतना पड़ता था ӏ आज जब शाम के चार बज गए तो रामचंद्र ने विवेक को दीवार के पास बुलाकर पांच  सौ रुपये दे दिए ӏ  पहले तो लक्ष्मी ने पैसे लेने से मना कर दिया ӏ  लेकिन रामचन्द्र के आग्रह करने पर वह मान गई ӏ उसने उन पैसो से कुछ घी, शक्कर, चावल आदि ख़रीदे व बचे हुए कुछ पैसो से विवेक को पटाखे दिला दिए ӏ वह पहले तो पटाखे नहीं लेना चाहता था ӏ लेकिन वह भी तो आखिर कब तक ना  करता ӏ  उसका अबोध मन उसके बस में नहीं था ӏ उसने कुछ पटाखे खरीदे और खुश होकर छोड़े भी ӏ 
अब शाम के आठ बज गए थे ӏ  लक्ष्मी ने माता लक्ष्मी की पूजा की ӏ भोग लगाया व शुभ मंगल की कामना की ӏ इतने में शराब के नशे में धूत लक्ष्मी का पति घर में आ धमका ӏ  उसने जी भर कर मिठाई खाई और जैसे ही उसे आभास हुआ की जो चंद पैसे लक्ष्मी के पास थे ӏ  उनको तो वह दारू पिने के लिए ले गया था, तो भला ये पैसे कहाँ से आए ӏ उसने क्रोधित होकर लक्ष्मी से पुछा,`` ये मिठाई के पैसे कहाँ से आए?``
 ``रामचंद्र चाचा ने दिए थे पिताजी I``  वह पांच वर्षीय नासमझ बालक अपनी जबान पर लगाम नहीं लगा सका ӏ `` क्या रे? कुलछनी तूं नहीं सुधरेगी ӏ ऐसा क्या है उस साले रामचंद्र में जो मुझमे नहीं है? तुझे तो मैं भी खुश कर सकता हूँ ӏ``, हरिराम ने क्रोधित होकर लक्ष्मी से कहा ӏ `` यूँ मुझ पर लाछन न लगाओ I वरना....`` 
`` वरना क्या? `` फिर वह पुन: लक्ष्मी को पीटने लग जाता है I ``तेरी तो मैं ӏ तूं नहीं सुधरेगी, कुलछनी I``  फिर वह लक्ष्मी को लातो घुसो से पिटना शुरू कर देता है ӏ  आख़िरकार क्रोधित होकर वह उसका गला पकड़ लेता है ӏ वह गले पर जोर लगाना शुरु कर देता है ӏ लक्ष्मी के पांव कुछ देर तक तो हिलते हैं लेकिन  थोड़ी देर बाद उसके पांव हिलाना बंद कर देते हैं ӏ  उसकी  नाक से खून बहने लग जाता है ӏ उसकी हिरनी की सी आँखे बाहर निकली हुई सी दिखाई देती हैं ӏ वह अब निढाल हो चुकी थी ӏ जैसे ही हरिराम को आभास  हो जाता है कि  लक्ष्मी अब मर चुकी है तो वह सरपंच साहब के घर की तरफ दौड़ पड़ता है ӏ वह  लक्ष्मी को फर्श पर निढाल पड़ी ही छोड़ जाता है ӏ  पांच वर्षीय अबोध बालक विवेक लक्ष्मी को खड़ा करने की कोशिश करता है ӏ  लेकिन लक्ष्मी तो वहां चली गई थी, जहाँ से वापस आना उसके बस की बात नहीं थी ӏ  विवेक की आँखे रोते-रोते पथरा सी गई थी ӏ  आस-पड़ोस के लोग लक्ष्मी पूजन में वयस्त थे ӏ उन्हें लक्ष्मी की मृत्यु  के बारे में पता नहीं चलता  है ӏ  विवेक अपनी माँ को अब भी खड़ा करने की कोशिश करता है लेकिन वह खड़ी नहीं होती है ӏ लक्ष्मी का कोमल शरीर अब अकड चूका था ӏ विवेक को कुछ समझ नही आ रहा था की उसकी माँ के साथ क्या हुआ है?  लक्ष्मी की देह की ठीक बाई तरफ लक्ष्मी माता का दीपक अब मंद पड़ चूका था ӏ लक्ष्मी माता को चढ़ाया गया प्रसाद बिखर चूका था ӏ वह रात भर सिसकियाँ लेता रहा लेकिन कोई भी उसे सँभालने वाला नहीं था ӏ वह अपनी मृत माँ के पास पूरी रात इस आश में बैठा रहा की कुछ ही क्षण बाद उसकी माँ खड़ी होगी और उसे प्यार से कहेगी की `` मेरा राजा बेटा क्यों रो रहा है? तुझे क्या चाहिए?`` लेकिन अब उसे पटाखे या खिलौने नहीं चाहिए थे ӏ उसे तो वो माँ चाहिए थी जो उसे गले लगाकर चूम सके और उसके घुंघरालू बालो में हाथ फिराकर उसे सूला सके ӏ लेकिन अब इन बातों के कोई मायने नहीं रहते हैं ӏ उसकी माँ अब मर चुकी थी ӏ 

  अगली सुबह गाँव में पुलिस आती है और  सरपंच साहब के कहने पर औपचारिकता पूरी करके चली जाती है ӏ लक्ष्मी का पंचनामा भी नहीं किया जाता है क्योंकि आखिर गाँव की इज्जत का जो सवाल था ӏ   हरिराम को सरपंच साहब दो चांटे मरते हैं ӏ वह दिखावटी आंसू  बहाता है ӏ वे उसे विवेक की देखभाल के लिए उसे बख्स देते हैं ӏ कुछ घंटो बाद लक्ष्मी की अंतिम विदाई की तैयारिया  शुरू की जाती है ӏ उसे आखिरी बार नहलाया जाता है ӏ उसे मेहँदी लगाई जाती है ӏ उसके बाल सवाँरे जाते है तथा मांग में सिन्दूर भी लगाया जाता है ӏ क्योंकि वह किस्मत वाली जो थी ӏ उसके पति के जिन्दा रहते जो मरी थी वह  वह सुहागिन जो थी ӏ लेकिन दो हजार की आबादी वाले गाँव में किसी भी पुरुष या महिला की यह कहने की हिम्मत नही हुई की मत करो ये ढोंग ӏ ये दिखावा, ये छलावा ӏ आखिर कब तक ऐसे ही इस नपुंसक समाज के द्वारा स्त्रियों की बलि ली जाएगी ӏ लेकिन विवेक की पथराई हुई आँखे जरुर ये बयां कर रही थी की उसकी माँ की हत्या करने वाला कातिल केवल उसका पिता ही नहीं ये सारा नपुंसक समाज था ӏ  उसके दिमाग में बस एक प्रश्न  कौंध रहा था की आखिर कब तक ये दिखावटी लक्ष्मी पूजन की परम्परा इस देश में चलती रहेगी?     





  -राजेन्द्र कुमार शास्त्री ( गुरु ) 
सम्पर्क सूत्र - rk399304@gmail.com 
                                                                                                        मोबाइल - 9672272740                                                    

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top