0
Advertisement

Grammar ग्रामर व्याकरण 


Grammar ग्रामर व्याकरण - किसी भी भाषा को सीखने के लिए उस भाषा के व्याकरण Grammar की जानकारी होना बहुत आवश्यक है .भाषा के व्याकरण की सहायता से ही भाषा को शुद्ध रूप में लिखा जाता है .व्याकरण में भाषा के आवश्यक नियम होते हैं .व्याकरण ही वह विज्ञान है जो भाषा को सही रूप देता है .भाषा के व्याकरण से हमें इस बात का ज्ञान होता है कि अपनी बात को दूसरे को प्रकट करने के लिए किस प्रकार शब्दों को प्रयोग किया जाता है .अंग्रेजी भाषा सीखने के लिए उसकी ग्रामर के विषय में जानकारी होना आवश्यक है . 

Word (शब्द )- Vowels और Consonants (स्वर और व्यंजन ) के मिलने से Word  बनता है या हम कह सकते हैं कि कई अक्षरों के ठीक प्रकार से मिलने पर Word बनता है .जैसे - Boy,Pen से सही क्रम से शब्द समूह मिलने पर ही कोई शब्द बनता है ,जिसका अर्थ होता है लड़का ,कलम लेकिन यदि हम Yob या enp लिखते हैं तो उसका कोई अर्थ नहीं निकलता है . 

Word को नियमानुसार लिखने से Phrase (प्रेज ) पद एवं Sentence वाक्य बनते हैं।Word वर्ड में आठ प्रकार के होते हैं ,जिन्हें Parts of speech पार्ट ऑफ़ स्पीच  कथन के भेद कहते हैं . जिनका विवरण निम्नलिखित हैं - 

  1. Noun - संज्ञा 
  2. Pronoun - सर्वनाम 
  3. Adjective - विशेषण 
  4. Verb - क्रिया 
  5. Adverb - क्रिया विशेषण 
  6. Preposition - सम्बन्ध सूचक अव्यय 
  7. Conjunction - संयोजक 
  8. Interjection - विस्मयादिबोधक


एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top