0
Advertisement

चलो शिखर की ओर 



आज जगत में  भ्रम कारा का हुआ जा रहा है विस्तार
पथ के  ढेर देखकर   बुद्धि   रह जाती है   पाकर हार
संसृति का क्रम पलट रही है मानव की बढती अभिलाषा
वैभव के उच्चाभिमान पर खड़ी हुयी है जग की आशा
चलो शिखर की ओर
दिखा सको पथ एक विश्व को हो  आगे जिस पर ध्येय
हो  विपदायें  खूब भले   पर   मिले    रात की   भोर
है पाना यदि राह निराली   चलो     शिखर   की ओर ।

विगत विश्व की छिपी प्रेरणा खोजो लाओ और दिखाओ
जब मानवता ही केवल थी तब के मंगल गान सुनाओ
हो निःशब्द खोजता यह जग नीरवता के मंथन में स्वर
मोह पाश  में  व्याकुल होकर  तड़प  रहा है भीतर उर
मिले शांति इस  मौन क्षुधा  को ऐसी  झंकृत एक मिले
जहां   मौनता  गुण  विशेष   हो   मचे  वहां  पर  शोर
है अगर बताना  सत्य  विश्व को चलो शिखर की ओर ।

झेल विपद् की चोट खोट आ चुकी मनुज के जीवन में
केवल   मृत्यु प्रतीक्षा   ही है एक मात्र  मर्यादा मन में
सृष्टि   चुनौती   रिक्त पड़ी है कौन करे स्वीकार अभी
घाटी ही बस  विश्व   बनी है कौन करे गिरि पार अभी
उनके   दृग   का हो  विस्तार  देख रहे जो  थोड़ा सा
कोई  सीमा  नहीं जगत की देखें जाने  जग को और
अगर दिखाना जग है सबको चलो शिखर की ओर ।

केवल  जीवन यापन  को ही  कर्म  मानता है संसार
क्रिया समुच्चय कुछ विशेष है बना हुआ धर्म पर भार
केवल  विपदाहीन  यात्रा है बनी हुई जीवन परिभाषा
कर्मवीरता  मात्र   स्वप्न है त्रुटि से भरी तर्क की भाषा
दिशाहीन जो कर्म हो रहा जुड़े ध्येय से एक एक कर
कर्मवीरता  ध्येय  बने फिर दृढ़ हो सृष्टि चक्र की डोर
अर्थ  कर्म  का समझाना है  चलो  शिखर की ओर ।



- अनूप सिंह 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top