1
Advertisement

हाथी और टेलर



हल्कू  छोटा  सा  हाथी  था
टेलर उसका एक साथी था।

गहरे   जंगल  में  रहता  था
वह हरदिन मिलने आता था।
हाथी और दर्जी
हाथी और दर्जी

वह सूंड हिलाता आता था
वह केला खाकर जाता था।

वो एक फूल लेकर आता था
टेलर  के  हाथ  थमाता  था।

वह फूल ख़ुशी से लेता था
बदले   में  केला  देता  था।

टेलर  ने  शरारत सुझाई
हल्कू सूंड में पिन चुभोई।

हल्कू को बहुत गुस्सा आया
तभी  तालाब  वापस  आया।

सूंड में कीचड़ उठा लाया
सारा  टेलर  पर  बसाया।

हल्कू ने सबको फ़रमाया
जैसे  को तैसा फल पाया।




- अशोक कुमार ढोरिया
मुबारिकपुर(झज्जर)
हरियाणा
सम्पर्क 9050978504
ई मेल  :-
neelam11052014@gmail. Com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top