0
Advertisement

अपना घर


क्यूं चले आते हो बार-बार यहां, जबकि तुम्हें इस घर में हजारों कमियां दिखायी देती हैं। अभी सुबह ही तो कितना
घर
कुछ बोलकर गये थे तुम। यह भी कहा था कि अब इस घर में कभी पांव तक नहीं धरोगे। पैसों की तो कोई कमी नहीं तुम्हें, कहीं भी रह सकते हो, फिर क्यों नहीं रह लेते किसी दूसरी जगह।

हां रह सकता हूं, किंतु, खुश नहीं रह सकता। लाख कमी के बावजूद भी यह संसार की सबसे सुंदर जगह है। क्योंकि यह अपना घर जो है।





- तरु श्रीवास्तव

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top