0
Advertisement

अकेला दीप 


मेरा ही प्यार सहसा मर गया होगा। 
तुम्हारा मन इतना निष्ठुर तो नहीं था। 
कि झरे हुए अमलतास के फूलों को देख कर. 
तुम्हारा वक्ष धड़का न होगा। 

वेदना सी प्रखरा यादें तुम्हारी।   
अकेला दीप
अभिसारी स्मृति के सुख से सदा वंचिता सी।  
टिमटिमाती ज्योति सी, 
प्रमत्त-मन में झूमती वो आशा हमारी। 


स्वयंसिद्धा अनवरत ढूंढती तुम्हे। 
वो आँखें जो कभी थीं प्याले तुम्हारे 
प्रणय में संलग्न वो पल ,
तुम्हारे अस्तित्व में डुबोते हमें। 

मरुदीप सा अब आकाश लगता है। 
दर्द की संवेदनाओं का ,
अश्कों की स्याही में डूबा 
समय के पृष्ठों पर लिखा 
अलिखित इतिहास लगता है। 

अकेला दीप सा जलता हुआ मैं ,रुको 
वेदना के ज्योति कणों सा रिस रहा हूँ। 
मेरा ही प्यार सहसा मर गया होगा। 
तुम्हारा मन इतना निष्ठुर तो नहीं था।
कि बुझते हुए दीये को ,
अपने आँचल का सहारा न दे सको। 



- सुशील शर्मा  

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top