1
Advertisement

अपराध  की  दुनिया



आस्था आडम्बरयुक्त  हुई धरम-करम घट गया।
जोड़ने की शर्त थी  पर टुकड़ा-टुकड़ा बट गया।
वैमनस्य कटुता यहाँ  खूब फली फूली रिश्तों में,
परिणाम प्रत्यक्ष है आदमी-आदमी से कट गया।
____________________________________

ढूंढ़िये  क़िरदार   ऐसे   भी   मिलेंगे   तथ्य   में।
जल जंगल ज़मीन  का  संघर्ष जिनके कथ्य में।
लेखन
इतिहास लिखना शेष है उनके हिस्से का अभी,
संदर्भ से  कट  कर  सदा  जिए  जो नेपथ्य  में।
____________________________________

अपराध  की  दुनिया के दृश्य  घिनौने हो  गए।
इंसानियत का कद घटा किरदार बौने हो  गए।
ढाई आख़र पढ़ सकी न शायद हमारी ये सदी,
अंज़ाम उसका  ये  हुआ रिश्ते तिकोने हो गए।
___________________________________

दास्तान-ए-इश्क़ भी  है आग़  पानी  की तरह।
महक भी मिलती है इसमें रातरानी  की तरह।
समय जिसका ठीक हो मिलती उसे खैरात में,
वक़्त के मारों को मिलती मेहरबानी की तरह।
___________________________________

चंद सपने  और  कुछ  ख्वाहिशें हैं आसपास।
दूर ले जाती है मुझको आबो दाने की तलाश।
तन्हाई,   चिंता,   घुटन,   बेबसी,   मज़बूरियां,
बदलती हैं  रोज़  अपने-अपने ढ़ंग से लिबास।
___________________________________

दिल भी  एक  ज़ागीर  है, संभालिये जनाब।
दरिया दिली का शौक कुछ,पालिये  जनाब।
बाज़ार-ए-इश्क़ में गर करना है कुछ कमाल,
खोटा   ही  सही सिक्का, उछालिये  जनाब।
___________________________________

खुद को कभी भी  आप  यूँ  तनहा न छोड़िये।
जुड़िये किसी से  आप  भी औरों को जोड़िये।
असलियत उघाड़  दें न कहीं ए  बेशर्म  हवाएं,
शोरहत  का  लबादा  है जरा  ढंग से  ओढ़िये।
___________________________________

सब्ज़बाग़ दिखलाने  वाली  दृष्टि  सुनहरी है।
सिर्फ़ स्वयंहित  साधन  की साधना गहरी है।
अधिकारों के लिए एक ही विकल्प है संघर्ष,
सुनती भला याचना कैसे सत्ता गूंगी बहरी है।
___________________________________

मिटने और   मिटाने  की  बात  करता  है।
जहाँ को छोड़कर जाने की बात करता है।
समझ  पाया  नहीं जो स्वयं को आजतक,
नादान  है  वो  ज़माने  की  बात करता है।
___________________________________

करना है कुछ करो रोशनी के लिए।
चंद खुशियां जुड़े  जिंदगी के लिए।
सभी को  आदमी की  ज़रुरत यहाँ,
दोस्ती  के  लिए, दुश्मनी  के  लिए।
___________________________________

सब  मिलते  हैं  अपनी-अपनी तरह।
कोई मिलता  नही आदमी की तरह।
दोष दृष्टि में है  याकि  है  व्यक्ति  में,
है समझना कठिन जिंदगी की तरह।
___________________________________

कभी किस्से में मिलती है
कभी मिलती  कहानी में।
सुखद अहसास-सी है वो
महकती   रातरानी     में।
करुँ तारीफ़  भी  कितनी
भला उसके हुनर  की  मैं,
महज-मुस्कान-से  अपनी
लगाती   आग   पानी  में।
___________________________________



- अमरेश सिंह भदौरिया
अजीतपुर,लालगंज
रायबरेली,उत्तर प्रदेश
पिनकोड 229206
मोबाइल +919450135976

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top