0
Advertisement

सीता राम सीता राम सीताराम कहिये
Sita Ram Sita Ram Kahiye Jahi Vidhi Rakhe Ram


सीता राम सीता राम सीता राम कहिये।
जाही विधि राखे राम ताहि विधि रहिये । 
मुख में हो राम नाम, राम सेवा हाथ में।
सीता राम
सीता राम
तू अकेला नहीं प्यारे, राम तेरे साथ में। 
विधि का विधान जान, हानि लाभ सहिये। 
जाही विधि राखे राम ताही विधि रहिये ॥
सीताराम, सीताराम...............

किया अभिमान तो फिर मान नहीं पायेगा। 
होगा वही प्यारे जो श्रीराम जी को भायेगा। 
फल आशा त्याग शुभ काम करते रहिये ।
जाही विधि राखे राम ताही विधि रहिये ॥
सीताराम, सीताराम........

जिन्दगी की डोर सौंप हाथ दीनानाथ के।
महलों में राखे चाहे झोंपड़ी में वास दे। 
धन्यवाद निर्विवाद राम राम कहिये।
जाही विधि राखे राम ताही विधि रहिये ॥
सीताराम, सीताराम.............

आशा एक राम जी से दूजी आशा छोड़ दे। 
नाता एक राम जी से दूजा नाता तोड़ दे।
साधु संग राम रंग अंग रंगिये।
काम रस त्याग प्यारे राम रस पगिये ॥
सीताराम, सीताराम...............


वीडियो के रूप में देखें - 





एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top