0
Advertisement

शक्ति वंदना 
Shakti Vandana


वह शक्ति हमें दो दयानिधे, कर्तव्य मार्ग पर डट जावें।
शक्ति वंदना
पर सेवा पर उपकार में हम, निज जीवन सफल बना जावें ॥
हम दीन दुखी निबलों विकलों, के सेवक बन संताप हरें।
जो हों भूले भटके बिछुड़े, उनको तारें खुद तर जावें ॥
छल देष दम्भ पाखंड झूठ, अन्याय से निसदिन दूर रहें।
जीवन के शुद्ध सरल अपना, शुचि प्रेम सुधा रस बरसावें ।
निज आन मान मर्यादा का, प्रभु ध्यान रहे अभिमान रहे ॥
जिस देश जाति में जन्म लिया, बलिदान उसी पर हो जावें ॥



विडियो के रूप में देखें - 




एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top