0
Advertisement

मुँहासे हटाने के लिए घरेलू उपाय 
Muhase pimples hatane ke gharelu upay Home remedies in hindi


पिम्पल्स हटाने के उपाय  मुँहासे हटाने के लिए घरेलू उपाय Muhase pimples hatane ke gharelu upay Home remedies in hindi - किशोरावस्था में और प्रौढ़ा अवस्था के आसपास चेहरे पर कई तरह के परिवर्तन होते हैं।यह परिवर्तन स्वाभाविक विकारों के कारण होते हैं। कील मुहांसों और झाइयों के रूप में सामने आ जाते हैं।यदि चेहरे पर  काली कीलें  हो तो चेहरे को भाप देना या साबुन से धोना सबसे लाभदायक है। नींबू के सूखे फूल उबले पानी में मिलाकर भाप देने से भी लाभ होता है।कम से कम 10 मिनट तक चेहरे को भाप अवश्य दी जानी चाहिए।इसके बाद जहां तहां कीलें हो उनके पास के हिस्से को टिश्यू से यार उन्हीं से हल्का सा दबाएं ,फिर उस छिद्र को किसी तेज लोशन से बंद कर दें।  

मुँहासे
मुँहासे
यदि भाप  देने पर भी काली कीलें न निकले तो उन पर सल्फर मिले पानी से भाप देने का उपक्रम करना चाहिए।अधिक कड़ी किलों के लिए इन पर  बादाम रोगन लगाएं तथा तथा गर्म तौलिए से दबाएं।एक  औंस डिस्टिल वाटर में २०-२५ बूँद बाइकॉर्बोनेट   मिलाकर लगाने से भी काली किलो पर आश्चर्यजनक प्रभाव पड़ता है। गहरी कीलों के लिए चेहरे को भाप देने के बाद एक कप  पानी में मैग्नीशियम सल्फेट डालकर मिलाएं और इसे अन्य उबलते हुए पानी में रख दें। इसमें तीन चार बूंदे आयोडीन की भी  डाल दें। किसी नरम तौलिए  को इस मिश्रण में भिगोकर किलो पर लगाएं साथ ही गर्म तौलिए को चेहरे पर बदल-बदल कर लगाती रहे और रुई से दबा दबा कर किलो को निकाल दें.

दूध भी काली कीलों से छुटकारा दिलाने में सक्षम है। गर्म पानी से चेहरे धोने के बाद गर्म दूध द्वारा चेहरे को 10-15 मिनट तक स्पंज अवश्य करना चाहिए।दूध के साथ-साथ गर्म शहद भी लाभकारी सिद्ध होता है.दो ग्लिसरीन साबुन, 4 अंश बदाम का चूरा,एक औंस मुल्तानी मिट्टी का घोल  पानी में कई दिनों तक कीलों  पर लगाएं।कीलों को साफ करने का यह  एक उत्तम साधन है।मुंहासे यौवन के आगमन के समय निकलते हैं.

किशोरावस्था  में बड़ी तीव्रता के साथ-साथ शरीर वृद्धि होती है क्योंकि चेहरे की त्वचा इस परिवर्तन के अभ्यस्त नहीं होती। अतः वहां से निकल आते हैं को कभी नोचना कचोटता नहीं चाहिए तथा बार-बार दबाना भी नहीं चाहिए।पेट में कब्ज ना होने दें पौष्टिक आहार लें। दिन में दो-तीन बार पहले गर्म और फिर ठंडे पानी से चेहरे को धोएं अधिक पानी पीना चाहिए। पालक एवं अजवाइन का रस भी मुहांसों के लिए गुणकारी है। 15 बूंद गाजर के रस में 5 गुण पालक का रस मिलाकर बहुत बढ़िया मिश्रण तैयार हो जाता है। मुहांसों से भरा चेहरे की त्वचा के लिए बहुत ही अधिक लाभप्रद है.

प्याज को काटकर घी में पकाएं पारदर्शी ना हो जाए. ठंडी होने पर मलमल के कपड़े में बांधकर पुल्टिस की भांति मुंहासों पर लगाएं। कपड़े हम भी मुहांसों को सुख आता है।कपूर न केवल मुहांसों को सिखाता है बल्कि चेहरे की त्वचा को भी सुख प्रदान करता है। रात में सोने से पूर्व वैसलीन या कोई उत्तम कोल्ड क्रीम लगाएं जब तक चेहरा बिल्कुल ठीक  ना हो जाए तब तक यह काम जारी रखें।

झाइयां भी चेहरे का  विकार हैं, जब इन स्थलों के सेल्स दुर्बल हो जाते हैं , तो यह विकार उत्पन्न हो जाते हैं। धूप  की झाइयां तो अस्थायी होती हैं किंतु यदि वो  विकार के कारण हुई हो तो उन्हें ब्लीच करना आवश्यक है। ब्लीचिंग से झाइयाँ कम हो जाती हैं।मेकअप द्वारा उन्हीं से ढका जा सकता है। यदि त्वचा शुष्क हो तो झाइयों की ब्लीच करने के बाद उन पर तेल अवश्य लगाएं।नींबू का रस भी  ब्लीचिंग करता है। अतः उसे झाइयों पर लगाएँ और  तब तक लगा रहने दें जब तक वह पूरी तरह से सूख न जाए. दही की लस्सी  से भी ब्लीचिंग की जा सकती है।झाइयों के लिए लेप तैयार करने के लिए कसरी  हुई मूली की कुछ बूंदें सिरके को मिलाकर चेहरे पर लगाएं। कसरी  हुई मूली को दूध में पकाकर भी ब्लीच  तैयार किया जा सकता है.



एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top