0
Advertisement



बोल हरि बोल हरि बोल हरि बोल हरि 
Hari Bol Hari Bol Hari Hari Bol 



बोल हरि बोल हरि बोल हरि बोल हरि, केशव माधव गोविन्द बोल ॥
नाम प्रभु का है सुखकारी, पाप कटेंगे क्षण में भारी।
नाम का पीले अमृत घोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥१॥
शबरी अहिल्या सदन कसाई, नाम जपन से मुक्ति पाई।
 श्री हरि
नाम की महिमा है बेतोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥२॥
सुवा पढ़ावत गणिका तारी, बड़े-बड़े निशिचर संहारी।
गिन-गिन पापी तारे तोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥३॥
नरसी भगत की हुण्डी सिकारी, न गयो साँवलशाह बनवारी।
कुण्डी अपने मनकी खोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥४॥
जो-जो शरण पड़े प्रभु तारे, भवसागर से पार उतारे।
बन्दे तेरा क्या लगता है मोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥५॥
राम-नामके सब अधिकारी, बालक वृद्ध युवा नर नारी।
हरि जप इत-उत कबहुँ न डोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥६॥
चक्रधारी भज हर गोविन्दम्, मुक्तिदायक परमानन्दम् ।
हरदम कृष्ण मुरारी बोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥७॥
रट ले मन तू आठों धाम, राम नाम में लगें न दाम।
जन्म गॅवाता क्यों अनमोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥८॥
अर्जुन रथ आप चलाया, गीता कह कर ज्ञान सुनाया।
बोल, बोल, हित-चित्त से बोल, केशव माधव गोविन्द बोल ॥9॥



विडियो के रूप में देखें - 




एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top