0
Advertisement

थिंक एंड ग्रो रिच  
Think and Grow Rich Hindi


थिंक एंड ग्रो रिच Think and Grow Rich Sochiye Aur Amir Baniye सोचिये और अमीर बनिये पुस्तक नेपोलियन हिल जी द्वारा लिखित एक अंतर्राष्ट्रीय बेस्ट सेलर बुक है .यह आत्मसुधार व व्यक्तिगत उपलब्धि सिखाने वाली पुस्तक ,जिसकी प्रेरणा लेखक को एंड्रू कार्नेगी से प्राप्त हुई .यह पुस्तक यह बताती है कि आप आर्थिक स्वतंत्रता कैसे प्राप्त कर सकते हैं ,साथ ही स्थायी मित्रता ,सुखद पारिवारिक ,आंतरिक सद्भाव ,जिससे मन की शान्ति प्राप्त होती है ,कैसे प्राप्त कर सकते हैं .सब १९३७ में प्रकाशित इस पुस्तक की आज तक करोड़ों प्रतिया बिक चुकी है . 

थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow Rich Sochiye Aur Amir Baniye सोचिये और अमीर बनिये का सार /summary - 

सोचिये और अमीर बनिये पुस्तक एंड्रू कार्नेगी की प्रेरणा से लिखी गयी है .कार्नेगी का विचार था कि यह जादुई फार्मूला ,जिसने उन्हें इतनी प्रचुर दौलत दी ,उन लोगों तक पहुँचाना चाहिए ,जिनसे पास पता लगाने का समय नहीं है कि लोग किस तरह दौलतमंद बनते है .इस रहस्य को लेखक ने १३ विचारों में बाँटा है .जिसके बारे में लेखक का मत है कि जो लोग इसका उपयोग करते हैं ,वे सफलता के शिखर पर पहुँच जाते है  . 

थिंक एंड ग्रो रिच
थिंक एंड ग्रो रिच
प्रथम अध्याय "विचार ही वस्तु है" में आपने एडविन सी .वार्न की कहानी बताई है ,जो कि विचार की शक्ति को माना .इसी शक्ति के सहारे वह थॉमस एडिसन का पार्टनर बना .वार्न जानते थे कि यदि निश्चित लक्ष्य हो ,लगन हो और इसके सहारे दौलत या किसी दूसरी भौतिक वस्तु को हासिल किया जा सकता है .वार्न ,एडिसन के साथ काम करना चाहते थे ,उनके लिए काम नहीं करना चाहते थे .वार्न ने महान एडिसन के साथ पार्टनरशीप की बात दिल से सोची .यह सोचकर सोचकर वे दौलतमंद बन गए . 

दूसरे अध्याय "इच्छा" में आपने प्रबल इच्छा को धन में बदलने के तरीके बताएं हैं .छः क़दमों का प्रयोग करके कठिन लक्ष्य को भी प्राप्त किया जा सकता है .जो लोग जीवन में सफल हुए है ,उन्हें बुरी शुरुवात का अनुभव हुआ है और सफलता की मंजिल पर पहुँचने से पहले उनकी राह में बहुत ही बाधाएँ आई है .कोई भी व्यक्ति तब तक नहीं हारता ,जब तक वह अपनी हार को सच के रूप में स्वीकार नहीं कर लेता . लेखक ने आस्था के सम्बन्ध में बताया है कि आस्था मस्तिक में हेड केमिस्ट है .जब आस्था को विचार के साथ मिलाया जाता है ,तो अवचेतन मस्तिष्क तत्काल इस कम्पन्न को भाप लेता है और इसे अनंत प्रज्ञा को संप्रेषित कर देता है .अगर आप आस्था के भाव को अपनी इच्छा के अनुसार विकसित करना चाहते है ,तो इसका एकमात्र तरीका यही है कि आप अपने अवचेतन मस्तिष्क को बार बार सकारात्मक विचारों से भर दें .जिन विचारों के पीछे प्रबल भावना होती है और जिनमें आस्था का मिश्रण होता है ,वे सभी विचार तत्काल अपने भौतिक समतुल्य में बदलना शुरू हो जाते है .अतः आत्मसुझाव  के नियम द्वारा कोई भी व्यक्ति उपलब्धि की कल्पनातीत उचाईंयां को छु सकता है . 

लेखक कहता है कि  ज्ञान हासिल करके अपने निश्चित लक्ष्य के प्रयोग में लाया जा सकता है .ज्ञान का कोई भी मूल्य नहीं है ,सिवाय इसके कि आप जो भी ज्ञान हासिल करें ,उसका इस्तेमाल आप किसी अच्छे लक्ष्य की प्राप्ति के लिए करें .आप उन नियमों की मदद से अमीर बन सकते है ,जो अपर्वारिनीय है ,लेकिन इन नियमों से परिचित होना चाहिए और उनका प्रयोग करना सीखना चाहिए .लेखक की यह आशा है कि अगर इन सिधान्तों को बार बार दोहराया जाए और इनका हर संभव कोण से वर्णन किया जाए ,तो शायद आपके सामने वह रहस्य प्रकट हो जाए ,जिसके द्वारा ,ढेर सारी दौलत प्राप्त की जाती है . 

सोचिये और अमीर बनिये थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow पुस्तक १५ अध्यायों में विभाजित है .जिसमें से कुछ प्रमुख अध्याय है - 

  • विचार ही वस्तु है . 
  • इच्छा - सभी उपलब्धि का शुरुवाती बिंदु 
  • आत्म सुझाव 
  • विशेषज्ञीय ज्ञान 
  • सुव्यवस्थित योजना 
  • मास्टर माइंड की शक्ति 
  • अवचेतन मस्तिष्क

नेपोलियन हिल लेखक के बारे में - 

नेपोलियन हिल
नेपोलियन हिल
नेपोलियन हिल एक अमेरिकी लेखक थे। आपने मुख्य रूप से सेल्फ हेल्प व कामयाबी से संबधित पुस्तकें लिखी हैं . इनकी लिखी पुस्तक थिंक एंड ग्रो रिच (1937) सबसे प्रसिद्ध है और इन्हें इसी के द्वारा लेखक के रूप में सर्वाधिक पहचान मिली। थिंक एंड ग्रो रिच (1937) की आज तक करोड़ों प्रतियाँ बिक चुकी हैं .हिल की पुस्तकें यह साबित करती हैं कि आप आर्थिक स्वतंत्रता कैसे प्राप्त कर सकते हैं ,साथ ही स्थायी मित्रता ,सुखद पारिवारिक ,आंतरिक सद्भाव ,जिससे मन की शान्ति प्राप्त होती है ,कैसे प्राप्त कर सकते हैं .इनकी अधिकतर किताबे "सफलता" प्राप्त करने के लिए सिद्धान्तों का अनुसरण करने की सलाह देती हैं।

थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow क्यों खरीदें - 

नेपोलियन हिल द्वारा लिखित थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow एक अंतर्राष्ट्रीय बेस्ट सेलर बुक है . इस किताब में धन कमाने के ऐसे रहस्य दिए हैं ,जो आपका जीवन बदल सकते हैं .यह किताब आपको वह जादुई फार्मूला सिखाएगी ,जिससे आप अमीर बन सकते हैं .यह आपको न केवल यह बताएगी कि क्या करना है ,बल्कि यह भी बताएगी कि उसे कैसे करना है .अगर आप इस पुस्तक में बताई गयी सरल मूलभूत तकनीकें सीखकर उन पर अमल करेंगे ,तो आप वास्तविक सफलता और सच्ची दौलत प् सकते हैं .आप जीवन में जो भी चाहते हैं ,वह सब आपको मिल सकते हैं . 

थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow कहाँ से खरीदें - 


थिंक एंड ग्रो रिच  Think and Grow पुस्तक अंग्रेजी भाषा में लिखी गयी है।जिसे हिंदी में मंजुल प्रकाशन द्वारा उपलब्ध कराया गया है।जिसका हिंदी अनुवाद डॉ.सुधीर दीक्षित जी व रजनी दीक्षित जी द्वारा किया गया है।आप अमेज़ॉन द्वारा घर बैठे - बैठे इस पुस्तक को प्राप्त कर सकते हैं।पुस्तक खरीदने का लिंक नीचे दिया गया है।




Keywords - 
Think and Grow Rich Hindi Sochiye Aur Amir Baniye Think and Grow Rich थिंक एंड ग्रो रिच Think and Grow Rich Hindi थिंक एंड ग्रो रिच Think and Grow Rich Sochiye Aur Amir Baniye सोचिये और अमीर बनिये थिंक एंड ग्रो रिच hindi थिंक एंड ग्रो रिच इन हिंदी थिंक एंड ग्रो रिच इन हिंदी नेपोलियन हिल पुस्तकें थिंक एंड ग्रो रिच बुक इन हिंदी अमीरी की चाबी आपके हाथ में sochiye aur आमिर baniye सोचिये और अमीर बनिये

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top