0
Advertisement

प्रेम की आत्मा
Prem Ki Aatma


एक गाँव के पास एक साधु रहता था .वह कपड़े नहीं पहनता था . उसने घास - फूस की एक कुटिया बना रखी थी .वह लोगों से दिन में केवल एक बार ही मिलता था .वहाँ औरतें नहीं आती थी .गाँव वालों ने एक दिन साधु से कहा -हम लोग तो आपकी कथा सुन लेते हैं ,लेकिन महिलाएं नहीं सुन पाती .यदि आप एक लंगोटी ही पहन ले तो वे भी आपकी कथा सुनकर कुछ ज्ञान ले सकती है . 

प्रेम की आत्मा
प्रेम की आत्मा
साधु मान गया और दूसरे दिन से लंगोटी पहनकर कथा सुनाई जिसको महिलाओं ने भी सुना .साधु कथा करने के बाद लंगोटी उतार दिया .एक दिन चूहे ने साधु की लंगोटी को कुतुर दिया .गाँववालों ने कहा - महाराज ! आपको चूहे बहुत तंग करते हैं , आप क्यों न एक बिल्ली को पाल लें ,साधु ने सोचा यह बात तो ठीक है और उसने एक बिल्ली को पाल लिया . अब गाय को भी धूप और बरसात से बचाने के लिए कोठरी बनवा ली .धीरे - धीरे साधु का एक  बड़ा मकान भी बन गया .कुछ समय बीतने पर साधु का एक पुराना मित्र आया और लोगों से अपने मित्र के बारे में पूछने लगा कि यहाँ एक नग्न बाबा रहते थे ,वे कहाँ मिलेंगे ?

तब लोगों ने मित्र को बताया कि सामनेवाला जो मकान है ,उसी में वे रहते हैं .मित्र को आश्चर्य हुआ ,फिर भी वहाँ चला गया .वहाँ जाने पर उसे काफी चहल - पहल लगी .घर के भीतर बच्चे खेल रहे थे .तभी उसकी अपने मित्र से मुकालात हुई तो उसने पूछा - महाराज ! यह सब क्या है ? तब साधु ने हँसते हुए कहा - यह सब एक लंगोटी की करामात है .न मैं कभी लंगोटी पहनता और न यह सब होता . 

संसार में रहनेवाले लोग भी ठीक यह करते हैं .पहले तो छोटा - सा सोचते हैं फिर बड़ा सोचने लगते हैं और एक दिन उसी में उलझ कर रह जाते हैं फिर बड़ा सोचने लगते हैं और एक दिन उसी में उलझ कर रहे जाते हैं .एक बार एक छोटी -सी इच्छा बन जाए तो अनेक चीज़ें इकट्ठी हो जाती हैं और जीवन अनेक आकांक्षाओं में उलझ जाता है .शायद यही संसार है . 

प्रेम की आत्मा का प्रकाश है ,जो इस प्रकाश में जीवन - पथ पर अग्रसर होता है ,उसे संसार में शूल नहीं ,फूल नज़र आते हैं . 



एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top