1
Advertisement

हम वृक्ष नहीं कटने देंगे



निज लालच के वश में होकर
अपनी दुनियां ही जला रहे
अच्छे शिक्षित होकर के भी
हम वृक्ष नहीं कटने देंगे
हम वृक्ष नहीं कटने देंगे
अपनों की दुनियां मिटा रहे।

खाना, रहना,गाड़ी बंगला
तुम्हें सबकुछ बड़ा बनाना है
फिर वृक्ष क्यों ऐसे काट रहे
सांसों को भी तो बचाना है।

इतने शिक्षित होकर के भी
वृक्षों का रक्षण नही किया
फिर मान ही लेना जीवन में
तुमने शिक्षा ही नही लिया।

ये हरियाली देते हमको
खुशहाली देते रहतें हैं
जीवन से बड़ा कहाँ कुछ है
ये प्राण वायु जो देते हैं।

एक वृक्ष लगाने में सोचो
बरबाद हमारा क्या होगा
यदि हर एक जीव को स्वाँस मिले
नुकसान तुम्हारा क्या होगा।

आओ संकल्प अभी ले लें
हरियाली क्यों हटने देंगें
चाहे दुनियां कुछ भी बोले
हम वृक्ष नही कटने देंगें।।
                     
                                 
                  

✍ प्रणव मणि त्रिपाठी
                    (महावीर धाम सोसाइटी)
                               नरनी,सरायभारती
                                  रसड़ा, बलियां
                                 8953220856

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top