0
Advertisement

जुए की लत  
Jua Ki Lat Gambling Addiction in Hindi

जुए की लत Jua Ki Lat Gambling Addiction in Hindi - एक जुआरी  था .उसे जुआ खेलने की लत थी और बीमारी से दिन पर दिन तबीयत बिगड़ती जा रही थी .उसने सोचा अब मैं बचूँगा नहीं .उसको चिंता थी कि उसका लड़का भी उसी तरह जुआरी बन जाएगा .एक दिन उसने अपने लड़के को पास बुलाया और बोला - अब मैं नहीं बचूँगा ,एक बात मेरी मानना तुम जुआ नहीं खेलना ,अगर खेलना भी तो सबसे बड़ा जुआ खेलना .छोटा जुआ मत खेलना . 

जुआ
जुआ
लड़का बोला - ठीक है ,पिता जी .जुआरी एक दिन मर गया और लड़के को भू जुए का शौक चढ़ा . वह जुए के अड्डे पर पहुँच गया .वहाँ लोग पैसों से जुआ खेल रहे थे .वह देखता रहा और किसी से पूछा - इस जुआ से बड़ा कोई जुआ है ? सामने वाला बोला - वहाँ जाकर देखो ,लोग रुपयों से जुआ खेल रहे हैं .लड़का वहाँ पहुँच गया .फिर किसे से पूछा ,इस जुए से भी बड़ा कोई जुआ है ? उस आदमी ने बताया वहाँ चाँदी से जुआ खेला जाता है .लड़का वहाँ पहुँच गया .वहाँ भी उसने सवाल किया .किसी ने कहा वहाँ सोने से लोग जुआ खेलते हैं .लड़का वहाँ पहुँच गया और देखा सोना इधर से उधर और उधर से इधर हो रहा है . 

उसने सोचा शायद दुनिया का सबसे बड़ा जुआघर यही है .वहाँ भी उसने वही सवाल दोहराया .एक ने कहा - वहाँ जाओ ,वहाँ हीरे - जवाहरात से जुआ खेला जाता है .वहाँ भी लड़के ने वही प्रश्न दुहराया .एक व्यक्ति ने जबाब दिया .जो लोग यहाँ थक जाते हैं ,वे समुद्र के किनारे बड़े - बड़े ढेर से जुआ खेलते हैं . लड़का वहाँ भी पहुँचा और देखा कि बड़े - बड़े रोड़ी और बजरे के ढेर हैं .वहाँ तो मुट्ठी भर हीरे - जवाहरात थे .यहाँ लोग एक ही बार में रोड़ी के पल्ले भर - भर कर लगा रहे थे और कह रहे थे यह ढेर मेरा और यह तेरा .लड़का उन्हें देखता रहा और बोला - क्या यही सबसे बड़ा जुआ है ? तब एक जुआरी बोला - हाँ ,हम लोग जुआ खेलते - खेलते कंगाल हो जाते हैं .यहाँ कोई जमीन से खेलता और कोई पत्थरों से .हम लोग इसे ही हीरा - मोती मानते हैं .फर्क इतना है कि वे चमकते थे ,ये चमकते नहीं .समुद्र की लहर आती है और सब निशान मिट जाते हैं .फिर नए सिरे से निशान लगाते हैं ,क्योंकि जुआ तो खेलना ही है .लड़का समझ गया कि जुए का अंजाम क्या होता है .यही जिंदगी है ,इसका कोई अंत नहीं ,कोई सीमा नहीं है . 


कहानी से शिक्षा - 

  • जुआ नहीं खेलना चाहिए . 
  • अपने लालच पर रोक लगानी चाहिए . 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top