1
Advertisement

वर्तमान में साहित्यकारों के समक्ष चुनौतियाँ 


भारत, तेजी से प्रगतिशील राष्ट्र के रूप में, सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक संक्रमणों में भारी बदलाव से गुजर रहा है। हम साहित्यिक दृश्य में एक आदर्श बदलाव को देखते हैं, जहां हम खुद से सवाल करते हैं, क्या साहित्य मात्र भावनाओं की उत्तेजना है ? या, क्या आम आदमी की भावना के साथ सहानुभूति व्यक्त करने के लिए इसकी कोई गंभीर और जिम्मेदार भूमिका है? देश में वर्तमान परिदृश्य, छात्रों की अशांति और राजनीतिक अराजकता की ओर अग्रसर है, सांप्रदायिक असंतोष, अन्याय की भावना, अस्वस्थता, उत्तेजना और दलितों और वंचितों के मन में आक्रोश साथ ही विकास के नए नए आयामों ,बढ़ती हुई विकास की प्रक्रिया के बीच हमारा समाज खुद को  वर्गीकृत करते हुए, नए और अप्रत्याशित नेतृत्वों की तलाश में है।  

साहित्य को विचारकों ने दो सिद्धांतों के अंतर्गत विभाजित किया है। पहले को 'कला के लिए कला' कहा जाता है
साहित्य
साहित्य
और दूसरे को 'सामाजिक उद्देश्य के लिए कला' कहा जाता है।भारत में लेखक 'कला के लिए कला' या 'सामाजिक उद्देश्य के लिए कला' दोनों सिद्धांतों का पालन करते हैं? दोनों सिद्धांतों  ने महान कलाकारों और लेखकों का उत्पादन किया है। हालांकि, हमें यह सोचना है कि आज की ऐतिहासिक स्थिति में कौन सा सिद्धांत  हमारे देश के लिए अधिक फायदेमंद होगा। भारत में लेखक 'कला के लिए कला' या 'सामाजिक उद्देश्य के लिए कला' दोनों सिद्धांतों का पालन करते हैं? जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, दोनों स्कूलों ने महान कलाकारों और लेखकों का उत्पादन किया है।
पहले सिद्धांत के अनुसार, कला और साहित्य केवल लोगों और कलाकारों को खुश करने और मनोरंजन करने के लिए हैं, और वे सामाजिक विचारों का प्रचार करने के लिए नहीं हैं। इस सिद्धांत के अनुसार यदि सामाजिक विचारों का प्रचार करने के लिए कला और साहित्य का उपयोग किया जाता है तो एक प्रपोगेंडा  बन जाता है। इस विचार के समर्थक कीट्स, टेनीसन, एज्रा पाउंड और टीएस हैं। अंग्रेजी साहित्य में एलियट, अमेरिकी साहित्य में एडगर एलन पो, हिंदी साहित्य में अज्ञेय  और 'रीतिकल' और 'छायावदी' कवि, उर्दू साहित्य में जिगर मुरादाबादी और बंगाली साहित्य में टैगोर प्रमुख हैं ।
दूसरे सिद्धांत के अनुसार साहित्य मानव मात्र की सेवा करता है साथ ही पीड़ितों और अन्याय के खिलाफ लोगों की भावनाओं को उत्तेजित करके और लोगों को दुखों के प्रति संवेदनशीलता बनाकर बेहतर जीवन के लिए अपने संघर्ष प्रदान करता है । अंग्रेजी साहित्य में डिकेंस और जॉर्ज बर्नार्ड शॉ हैं, वॉल्ट व्हिटमैन, मार्क ट्वेन, हैरिएट बीचर स्टोव, अप्टन सिंक्लेयर और जॉन स्टीनबेक अमेरिकी साहित्य, बलजाक, स्टेंडहल, फ्लैबर्ट और विक्टर ह्यूगो फ्रांसीसी, गोएथे, शिलर और एरिच मारिया में जर्मन में रीमेर्क, स्पैनिश में सर्वेन्टिस, टॉल्स्टॉय, गोगोल, डोस्टोव्स्की और रूसी में गोरकी, हिंदी में प्रेमचंद और कबीर, बंगाली में नाज़िर, फैज, जोश और मंटो में शरत चंद्र चट्टोपाध्याय और काज़ी नज़रूल इस्लाम आदि अनेकानेक साहित्यकारों ने युग परिवर्तन किया हैं। 

साहित्य एक विस्तृत शब्द है, जिसमें कला, संस्कृति, बुद्धि, विचार, मत और दर्शन समग्रता के साथ समाहित है। साहित्य विचार प्रक्रियाओं को प्रोत्साहित कर सकता है; सामान्य उदासीनता के खिलाफ जाग्रति उत्पन्न कर सकता है । मेरा मानना ​​है कि शब्द लेखक की सक्रियता की संरचना है। पुरस्कारों को लौटनेवाले लेखक, अगर वे अपनी कलम को मूल रूप से अपनी राय और मस्तिष्क को बदलने वाले  लक्षित लेखन का प्रयोग करते  तो शायद उनके लेखन का कुछ उपयोग होता है। राजनेता, पत्रकार, इतिहासकार, हस्तियां, शिक्षक और नए युग के छात्र-हर कोई बोल रहा है, जोर से और स्पष्ट-जो वास्तव में अच्छा है। तो, क्या इस शोक में लेखक की आवाज खो गई है? हां यह निश्चित रूप से खो जाएगा, अगर आवाज नपुंसक, नम्र और हल्की है। श्रुतिमधुरता  साहित्य की आवाज़ है, नम्रता नहीं। राजनीति और साहित्य साथ ही शक्ति और राजनीति के खतरनाक लिंक, राजनीतिक रूप से अपने मत को सर्वश्रेष्ठ दिखाने की अदम्य इच्छा ,-साहित्य को नपुंसक बना सकते हैं। साथ ही, सभी को खुश करने की लेखक की इच्छा, पुरस्कार और पुरस्कारों के लिए उत्सुकता, जो राजनीतिक पूर्वाग्रहों के अधीन है, अप्रभावी साहित्य के सृजन के रस्ते खोलता है और प्रभावी साहित्य धीरे धीरे मरने लगता है। 
आज भारत में लोग अच्छे साहित्य के लिए प्यासे हैं। अगर कोई लोगों की वास्तविक समस्याओं के बारे में लिखता है तो यह जंगल की आग की तरह फैल जाएगा। लेकिन क्या हमारे लेखक ऐसा कर रहे हैं? यदि नहीं, तो वे शिकायत क्यों करते हैं कि हिंदी पत्रिकाएं बंद हो रही हैं? कला और साहित्य को  लोगों की सेवा करनी चाहिए। लेखकों और कलाकारों के लिए लोगों के लिए वास्तविक सहानुभूति होना चाहिए और उनके दुखों को चित्रित करना चाहिए। और न केवल इंग्लैंड में डिकेंस और शॉ, फ्रांस में रुससे और वोल्टायर, अमेरिका में थॉमस पाइन और वॉल्ट व्हिटमैन, रूस में चेरनिशेव्स्की और गोरकी और बंगाल में शरत चंद्र और नाज़्रूल इस्लाम जैसे लोगों को उन्हें बेहतर जीवन के लिए संघर्ष करने के लिए प्रेरित करना चाहिए, एक जीवन जिसे वास्तव में मानव अस्तित्व कहा जा सकता है और एक बेहतर दुनिया बनाने के लिए, अन्याय, सामाजिक और आर्थिक से मुक्त। केवल तभी लोग साहित्य का सम्मान करेंगे।
साहित्य अंतस की गवाही है  "आंतरिक गवाही" । और यह अंतस की गवाही साहित्य,को  संवेदनशीलता , जीवन के प्रति भावुक एवं दयालुता और दृष्टिकोणशीलता के बारे में  गहराई को संबोधित करता है,यही वो साक्ष्य हैं  जिन्हें लेखकों ने अपनी कला के स्रोत के रूप में प्राप्त किया है। साहित्य हमारे भीतर जमे हुए समुद्र को तोड़ने के लिए एक कुल्हाड़ी  की तरह होनी चाहिए।" साहित्य जीवन को प्रतिबिंबित करता है और एक दर्पण न केवल सुंदर चीजों को प्रदर्शित करता है, बल्कि जो बदसूरत, है उसे भी नहीं छुपाता है, उतनी ही सफाई से उस बदसूरती को भी प्रतिबिंबित करता है । बिना उद्देश्य के साहित्य का लिखना वैसे ही है जैसे स्कूल जाये बगैर पढ़ना। 
एक साहित्यकार के रूप में हमें स्वयं का आलोचक होना चाहिए। जब  तक हम अपने अंतस के आलोचक नहीं बनेगें तब तक आत्ममुग्धता में स्तरहीन साहित्य रचा जाता रहेगा। तू मेरी प्रसंशा कर मैं तेरी करता हूँ की गुटबाजी में हम अक्सर अच्छी रचनाओं की समालोचना छोड़ देते हैं। 
हमें एक साहित्यकार के रूप में हमारी शास्त्रीय परम्पराएं ,एवं अतीत का व्यवहार विरासत में मिला हैं। हम उसी अतीत को थामे आँख बंद कर लिखते चले जा रहे हैं और नवप्रगतिवादी विचारधारा के कटु आलोचक बनते जा रहे हैं। 

साहित्यकार के रूप में हम अपनी साहित्यिक परंपराओं में सबसे अच्छा क्या को जारी रखते हुए  हमारे अतीत के साथ-साथ वर्तमान के लिए एक दायित्व बोध का निर्वहन करते हैं, हम साहित्यकार अतीत का  अनुकरण करके नहीं बल्कि उसके साथ रचनात्मक रूप सम्बन्ध स्थापित  करते हैं। यीट्स  ने कहा, हम अपने साथ झगड़े से कविता बनाते हैं। और दूसरों के साथ झगड़े से राजनीति करते हैं । हमें ध्यान रखना चाहिए कि साहित्यिक बंधुता के बीच ये झगड़े भी संवाद के रूप में साहित्य बन सकें। 
वैश्वीकरण के प्रभाव के तहत, हम एक हजार साल के बाद, एक और चक्र देखते हैं। भाषाओँ के अस्तित्व को खतरा है ; उनकी शक्ति कम हो रही है। शायद पूरी दुनिया कोसोमो पोलिस की भाषा के रूप में अंग्रेजी की दिशा में आगे बढ़ रही है इस कारण नहीं कि शेक्सपियर ने इसमें लिखा था बल्कि इसलिए क्योंकि दुनिया का सबसे शक्तिशाली राष्ट्र संयुक्त राज्य अमेरिका इसका उपयोग करता है। 

इसलिए मुझे लगता है कि यह हमारी भाषाओं में लेखकों की "ज़िम्मेदारी" है कि लोगों की भाषाएं,जिनका स्वयं का एक  इतिहास है, और उस इतिहास में मानव होने के मूल्यवान स्मृति की निरंतरता की भावना को सशक्त बनाया गया है। यह हमारा साहित्यकार होने के नाते कर्तव्य है कि हम ऐसी भाषों का पोषण करें। भारत में भाषाएं हमारी बहुलता का एक पहलू हैं और बहुलताएं हमारे लोकतंत्र की गारंटी हैं। हम भारत में हमारी सभ्यता की प्रकृति का वर्णन करने के लिए "विविधता में एकता" वाक्यांश का उपयोग करते हैं। इसका मतलब यह है कि यदि एक तानाशाही शासक केवल उच्च केंद्रीकृत शासन के हित में एकता पर जोर देता है, तो हम अपनी विविधताओं के बारे में पूरी तरह से जागरूक हो जाते हैं। मिसाल के तौर पर, यह असम, पंजाब में, तमिलनाडु में हुआ और अंततः भारत में आपातकाल का कारण बन गया। साथ ही, यदि विविधता के नाम पर अलगाववाद पर जोर दिया जाता है, और एक युगोस्लाव जैसी स्थिति बनाई जाती है, तो हम गहराई से हमारी सभ्यता की एकता के प्रति जागरूक हो जाते हैं। यही कारण है कि मैं भारत जैसे देश  में महसूस करता हूं यदि हम अधिक केंद्रीकृत होते हैं तो आत्ममुग्धता का भाव आ जाता है।  हमारे लिए एक सुखद स्थिति तब होती है जब एक टैगोर बंगाली थे और साथ ही साथ एक महान भारतीय कवि भी थे। गांधी गुजराती हैं  और साथ ही साथ एक महान भारतीय आत्मा भी है।
तथाकथित वैश्वीकरण, जो वास्तविकता में अमेरिकीकरण है, हमारे कई प्रतिष्ठित और परीक्षण मूल्यों के लिए एक खतरा है। हमारी भाषाओं में लेखकों को इस खतरे का जवाब देना है। अन्यथा हमारी भाषाओं के लिए कोई भविष्य नहीं है। 
जब सोशल मीडिया, टीवी और इंटरनेट ने हर चीज पर कब्जा कर लिया है - क्या पढ़ना की आदतें अभी भी हमारे साथ बरकरार हैं? क्या साहित्य व्यावहारिक रूप से इस अराजकता को दूर करने में मदद कर सकता है जिसका  हम अब सामना कर रहे हैं? साहित्यकारों  को अब एक आम मंच आयोजित करना होगा और पुस्तकों से  आम भारतीय पाठकों का लगाव उत्पन्न कराना होगा । रेमंड विलियम ने कहा है की  " संस्कृति एक उत्पादक  प्रक्रिया है " के दृष्टिकोण को मूल्यांकित  करना महत्वपूर्ण है। हमें यह भी मूल्यांकन करना चाहिए कि क्या हमारे लेखन में आज भारतीय मिट्टी की सुगंध है, बची है या नहीं जो आर के नारायण की  मालगुड़ी डेज में है ।


- सुशील शर्मा 

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत ही अहम विषय पर विचारणीय लेख के लिए बहुत -बहुत धन्यवाद |

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top