0
Advertisement

मई की गर्मी 


हाय री मई
तू अब तक नहीं गई
बोल और कितना जलाएगी
गर्मी
सारे शरीर का पानी तो पी चुकी
अब क्या कलेजा भी खाएगी
क्या अभी तक तेरी आग ठंढी नहीं हुई
कितने वर्षों की आग छिपाये थी
जो बरसाये जा रही हो ?
कुछ तो लोगों पे रहम खा
अब और दिल न जला
हमारी तो जान जा रही है
और तुम्हारा ये झटका हुआ
ख़ुदा के लिये अब बस करो, बस करो
पानी पी पीकर पेट तो हमारा मटका हुआ
ऐसे में बात कहें हम सांची
हर ओर घरों में,रस्तों में
लोग झल्ला रहे -मोरे गेले बांची
तुम तो कम से कम अब जाओ
फिर न जाने किस जून में पड़ेंगे
इंदर की किरपा कुछ हुई तो हुई
नहीं तो सड़े अंडों सा सड़ेंगे
इससे तो अच्छा है भईया
इस आग लगी गर्मी से निजात पाएं
और चल दरिया में डूब जाएं…




- रावेल पुष्प
संपर्क : नेताजी टावर, 278/ए, एन एस सी बोस रोड ,कोलकाता - 700047.
ई.मेल: rawelpushp@gmail.com 
मोबाईल:  9434198898

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top