0
Advertisement

मैं और मेरी पत्नी


-मैं और मेरी पत्नी दोनों नौकरी करते हैं । सप्ताह में दो बार हम रेस्तोरां में खाते हैं । घर में खा-खाकर बोर हो जाते हैं इसीलिए रेस्तोरां में खाते हैं । वहां समय भी अच्छे से कटता है ।
- हम जब साथ में बाजार जाते हैं तो मैं हमेशा उनका हाथ पकड़ कर चलता हूं । कईं लोग सोचते हैं हमारे बीच
मैं और मेरी पत्नी
मैं और मेरी पत्नी
बहुत ही गहरा प्रेम है । एक पल भी हम एक-दुसरे से जुदा नहीं रह सकते । दरअसल बात यह है कि उनका हाथ पकड़ना मेरी मजबूरी है । इसका कारण यह है कि बाजार के अंदर उनका हाथ छोड़ दो तो शापिंग माल में वह जाकर साड़ी खरीदना शुरू कर देतीं हैं । आजकल शापिंग माल इतने बड़े-बड़े बनते हैं कि उसके अंदर कोई गया मतलब उसे ढूंढ निकालना बहुत ही मुश्किल  है । बड़े-बड़े शापिंग माल में  कई लोगों को किसी न किसी को परेशान होकर ढूंढते हुए आपने देखा होगा । वह मेरी तरह चिंतित पति हैं । अपनी पत्नियों को ढूंढते रहते हैं ।
- मेरी पत्नी ने रसोई घर में माइक्रोवेव , फूड़प्रोसेसर, इलेक्ट्रिक टोस्टर  आदि रखें है । रसोई के लिए ओर बहुत ही यंत्र हैं लेकिन उन्हें इन सभी का इस्तेमाल करना नहीं आता । इसीलिए हम केवल दाल-चावल खाते हैं । वह जब हमारे घर आई थी तो अपने साथ यह सब सामान लेकर आई थी ।
- एक दिन उन्होंने कहा कि हमारी शादी की सालगिरह में मुझे एेसी जगह ले चलो, जहां मैं बहुत दिनों से नहीं गई । मैं उनका हाथ पकड़कर उन्हें रसोई में ले गया । सच में वह बहुत दिनों से रसोई में नहीं गई थी ।
-मैं अक्सर सोचता हूं कि जिस शर्मीली लड़की से मैंने शादी की थी वह कहां हैं ? अपनी पत्नी में हमेशा वह लड़की खोजने की कोशिश करता हूं लेकिन हमेशा की तरह निराश होता हूं ।
-मैं और मेरी पत्नी हमेशा हंसते रहते हैं । नवघन ने पूछा इसका रहस्य क्या है ? कहीं ओर मुझे यह देखने को नहीं मिलता । फिर मैंने इसका रहस्य उसे बताया । मेरी पत्नी मेरे ऊपर बेलन, गिलास, थाली आदि फेंकती है, मुझे लगने पर वह हंसती है और चूक जाने पर मैं हंसता हूं ।
- जिन लोगों ने अबतक शादी नहीं की उन्हें बता दूं कि तलाक से कैसे दूर रहें । शादी ही तलाक का बड़ा कारण है । शादी नहीं करेंगे तो तलाक नहीं होगा । बहुत ही साधारण सी बात है ।
-अंत में एक सतरंगी बात । एक ज्योर्तिविज्ञानी अपने पूरे जीवन में दुसरे ग्रहों में जीवन का संधान करते रहे । कईं सालों बाद 300 प्रकाश वर्ष दूर से एक ग्रह से उन्हें जीवन का संधान मिला । उन्होंने दूर ग्रह के प्राणी को संदेश भेजा, तुम्हारा ग्रह कैसा है?
पृथ्वी के वैज्ञानिक ने कहा कि हमारे ग्रह का व्यास 12,756 किलोमीटर । निकटस्थ तारा से हमारा ग्रह 9करोड़ 30लाख मील की दूरी पर है । यहां की तापमात्रा 72डिग्री फारेनहाइट है । हम प्रश्वास में अम्लजान लेते हैं । यहां दो तरह के इंसान हैं : पुरुष और स्त्री ।
- उन्होंने पूछा कि आपके ग्रह में नारी और पुरुष के बीच संबंध अच्छे हैं  ? मतलब दोनों में सही से बनता है ?
यह सवाल सुनकर  वैज्ञानिक थोडे से हड़बड़ा गए । उनकी पत्नी उनके पास बैठी थी । उन्हें कहा कि हां यहां दोनों के बीच अच्छे संबंध हैं ।
दुसरे ग्रह के प्राणी ने कहा कि अच्छा, फिर क्या हमारे ग्रह की स्त्रियों को आपके ग्रह में भेज  दें ?


- मृणाल चटर्जी
अनुवाद- इतिश्री सिंह राठौर



मृणाल चटर्जी ओडिशा के जानेमाने लेखक और प्रसिद्ध व्यंग्यकार हैं । मृणाल ने अपने स्तम्भ 'जगते थिबा जेते दिन' ( संसार में रहने तक) से ओड़िया व्यंग्य लेखन क्षेत्र को एक मोड़ दिया ।   इनका उपन्यास 'यमराज नम्बर 5003' का अंग्रेजी अनुवाद हाल ही में प्रकाशित हुआ है । इसका प्रकाशन पहले ओडिया फिर असमिया में हुआ । उपन्यास की लोकप्रियता को देखते हुए अंग्रेजी में इसका अनुवाद हुआ है।  

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top