0
Advertisement

कोलकाता ने मनाया हो ची मिन्ह का जन्म दिवस 


कोलकाता 23 मई ।इंडो वियतनाम सॉलिडरिटी कमेटी की ओर से अंकल हो यानि वियतनाम के प्राण पुरुष और भूतपूर्व राष्ट्रपति हो ची मिन्ह का 108 वां  जन्म दिवस मनाया गया ।
भारत वियतनाम संबंधों पर पुस्तक लोकार्पण करते हुए
भारत वियतनाम संबंधों पर पुस्तक लोकार्पण करते हुए
इस अवसर पर खास तौर से हो ची मिन्ह अकादमी हनोई से 6 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल  भी पहुंचा था ।
हो ची मिन्ह के तीन बार कोलकाता आगमन तथा वर्तमान संदर्भ में उनकी प्रासंगिकता पर विभिन्न वक्ताओं  ने अपने बहुमूल्य विचार  रखे।  इसके अलावे भारत और वियतनाम के बीच लगातार बेहतर हो रहे संबंधों का भी जिक्र किया गया तथा इस बात पर संतोष जाहिर किया गया कि दोनों देशों के बीच पर्यटकों की संख्या में भी लगातार इजाफा हो रहा है। इस  बात की भी चर्चा हुई कि कलकत्ते की हो ची मिन्ह सरणी का नाम सबसे पहले यहां के नागरिकों ने ही  रखा था ,जब यह नारा खास तौर पर बंगाल के जन जन में प्रचलित हो गया था - आमार नाम तोमार नाम, वियतनाम वियतनाम” जिसे फिर बाद में  सरकारी स्वीकृति भी मिल गई  थी। इस मौके पर यादवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास तथा त्रीदेव चक्रवर्ती और शुभदीप भट्टाचार्य द्वारा भारत वियतनाम संबंधों पर लिखी एक पुस्तक का लोकार्पण भी किया गया तथा कमेटी के महासचिव प्रेम कपूर तथा आवृतिकार उर्मिमाला बनर्जी ने हो ची मिन्ह   की कुछ कविताओं का पाठ भी किया।
 कार्यक्रम में प्रमुख वक्ताओं एवं महत्वपूर्ण उपस्थिति में शामिल थे -भारत में वियतनाम के प्रथम सचिव क्वीन बुई जुवान ,प्रतिनिधिमंडल के लीडर न्यू एन थी किम ,समिति के अध्यक्ष गीतेश शर्मा ,कोलकाता विश्वविद्यालय के इतिहास विभाग के प्रोफ़ेसर हरि वासुदेवन् ,भारत सरकार के पूर्व सचिव सर्वजीत चक्रवर्ती आई सी सी आर के निदेशक गौतम दे, शिक्षाविद् तिलोत्तमा मुखर्जी ,मुंबई हाई कोर्ट की अधिवक्ता उषा गुप्ता ,प्रभामई सामंतराय, कुसुम जैन ,प्रताप जायसवाल ,दिनेश वढेरा ,रावेल पुष्प,शकुन त्रिवेदी , एहतेशामुल हक तथा अन्य।


प्रेषक: रावेल पुष्प पत्रकार कोलकाता 
94341 988 98

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top