0
Advertisement

 हिम्मत छोटी सी

   

       
छेड़खानी
 "मैं स्कूल नहीं जाऊँगी मम्मी, नाहीं घर से बाहर कदम रखूँगी। " लालिमा माँ पर इतराते बोली।
        "क्यों?" माँ का जवाब। 
        "क्यों, क्या? आते जाते मुझे सभी लड़के तंग करते हैं। उल्टी सीधी टिप्पणियाँ करते हैं।" लालिमा रो उठी। 
        "सुन बिटिया, किचन से लाल मिर्च पाउडर बैग में रख ले, जो कोई परेशान करे उसकी आँखों में उड़ा देना...! " लालिमा को माँ की बात अच्छी लगी। 
          लालिमा सुबह स्कूल जा रही तभी रास्ते में कुछ लड़कों ने पीछा करने की कोशिश की लेकिन लालिमा की हिम्मत देख सभी भाग गये उन्हें ऐसा लगा कहीं शामत न आ जाये। बड़ी मुश्किल में न फँस जाये। 
           रोज लालिमा स्कूल जाती, घर वापस  आती। कोई उसे तंग नहीं करता। शायद ये सब उसकी छोटी सी हिम्मत का चमत्कार था। 





- अशोक बाबू माहौर 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top