0
Advertisement

चाँद का कुर्ता Chand Ka Kurta Poem 


हठ कर बैठा चाँद एक दिन, माता से यह बोला,
सिलवा दो माँ मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला।
सन-सन चलती हवा रात भर जाड़े से मरता हूँ,
चाँद
चाँद
ठिठुर-ठिठुर कर किसी तरह यात्रा पूरी करता हूँ।

आसमान का सफर और यह मौसम है जाड़े का,
न हो अगर तो ला दो कुर्ता ही को भाड़े का।
बच्चे की सुन बात, कहा माता ने 'अरे सलोने`,
कुशल करे भगवान, लगे मत तुझको जादू टोने।

जाड़े की तो बात ठीक है, पर मैं तो डरती हूँ,
एक नाप में कभी नहीं तुझको देखा करती हूँ।
कभी एक अंगुल भर चौड़ा, कभी एक फुट मोटा,
बड़ा किसी दिन हो जाता है, और किसी दिन छोटा।

घटता-बढ़ता रोज, किसी दिन ऐसा भी करता है,
नहीं किसी की भी आँखों को दिखलाई पड़ता है।
अब तू ही ये बता, नाप तेरी किस रोज लिवायें,
सी दे एक झिंगोला जो हर रोज बदन में आये!



- रामधारी सिंह दिनकर




विडियो के रूप में देखें - 




Keywords - 
chand ka kurta poem meaning in hindi chand ka kurta video chand ka kurta poem meaning in english chand ka kurta story chand ka kurta question answer chand ka jhingola chand ka kurta lesson plan hat kar baitha chand ek din hindi poem हठ कर बैठा चाँद एक दिन हिंदी पोएम हठ कर बैठा चाँद एक दिन माता से यह बोला चाँद पर कविताएं चाँद पर बाल कविता रामधारी सिंह दिनकर चाँद पर दोहे गगन का चाँद

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top