0
Advertisement

याद का दोना


क्षितिज के सिंदूरी आँचल
मुख में डालकर सूरज
सागर की इतराती लहरों पर
बूँद-बूँद टपकने लगा।

सागर पर पाँव छपछपता
लहरों की एडियों में रचाता
क्षितिजफेनिल झाँझरों में सजाता
रक्तिम किरणों की महावर।

स्याह होते रेत के किनारों पर
ताड़ की फुनगी पर ठोढ़ी टिकाये
चाँद सो गया चुपचाप बिन बोले
चाँदनी के दूधिया छत्र खोले

मौन प्रकृति का रुप सलोना
मुखरित मन का कोना-कोना
खुल गये पंख कल्पनाओं के
छप से छलका याद का दोना

भरे नयनों के रिक्त कटोरे
यादों के स्नेहिल स्पर्शों से
धूल-धूसरित, उपेक्षित-सा
पड़ा रहा तह में बर्षों से।



-श्वेता सिन्हा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top