1
Advertisement

भारत का ध्वज 
Flag of India


झंडा देश की मान मर्यादा का सूचक होता है .यही कारण है कि देशभक्त अपनी जान देकर भी झंडे के मान सम्मान की रक्षा करते हैं. हमारे देश का झंडा जो देखने में भी बड़ा आकर्षक है .इसे फहराता हुआ देखकर मन बल्लियों उछालने लगता है . 

तिरंगे का परिचय - 

भारत का ध्वज
भारत का ध्वज
हमारे राष्ट्र्रीय झंडे में तीन रंगों की पट्टियाँ हैं ,इसीलिए इसे तिरंगा भी कहते हैं . सबसे ऊपर केसरिया रंग है .बीच में सफ़ेद हरे रंग की पट्टी है .इस पट्टी के बीचों - बीच एक चक्र बना हुआ है .रंगों का यह मेल बड़ा अच्छा लगता है .भारत की राष्ट्रीय झंडे की कल्पना पिंगली वैंकैया ने की थी। इसे १५ अगस्त १९४७ को भारत की स्वतंत्रता के कुछ ही दिन पूर्व २२ जुलाई, १९४७ को आयोजित भारतीय संविधान-सभा की बैठक में अपनाया गया था।ध्वज की लम्बाई एवं चौड़ाई का अनुपात ३:२ है।

तिरंगे के रंगों का महत्व - 

इन रंगों का विशेष महत्व है .केसरिया रंग त्याग और बलिदान का प्रतिक है .यह हमें उन शहीदों की याद दिलाता है ,जिन्होंने अपने प्राण देकर हमें आजादी - दिलाई .यह हमें भी बड़ी बड़ी कुर्बानी के लिए तैयार रहने की प्रेरणा देता है .सफ़ेद रंग शान्ति और भाई चारे का प्रतिक है .यह बताता है कि भारत शांतिप्रिय देश है ,युद्ध नहीं चाहता है .हरा रंग हमारी समृद्धि का प्रतिक है . भारत के हरे - हरे लहराते खेतों में ही भारत की संपत्ति है और झंडे का हरा रंग उसी संपत्ति को प्रदर्शित करता है . बीच में चक्र का चिह्न सारनाथ की बौद्ध मूर्ति से लिया गया है .यह निरंतर सक्रिय रहने का सन्देश देता है . 

तिरंगा फहराने का नियम - 

राष्ट्रीय झंडे को फहराने के विशेष नियम होते हैं .२६ जनवरी २००२ को भारतीय ध्वज संहिता में संशोधन किया गया और स्वतंत्रता के कई वर्ष बाद भारत के नागरिकों को अपने घरों, कार्यालयों और फैक्ट्रियों आदि संस्थानों में न केवल राष्ट्रीय दिवसों पर, बल्कि किसी भी दिन बिना किसी रुकावट के फहराने की अनुमति मिल गई।बड़े सरकारी भवनों में इसे नित्य फहराया जाता है .पहले सिर्फ राष्ट्रीय पर्वों पर इसे कोई भी फहरा सकता था ,पर अब प्रत्येक भारतवासी इसे सम्मान के साथ नित्य फहरा सकता है .पुराना ,फटा ,मैला झंडा नहीं फहराना चाहिए . सूर्यास्त के समय पूरे सम्मान के साथ इसे उतार लिया जाता है . 

तिरंगे का सन्देश - 

यह झंडा हमें याद दिलाता है कि हमें अपनी आजादी को बनाये रखना है ताकि यह सदा फहराता रहे . 


एक टिप्पणी भेजें

  1. तिरंगे के बारे में महत्‍वपूर्ण जानकारी प्राप्‍त हुई। आभार।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top